खुद को अभिनेता के तौर पर नहीं देखते एक्टर राजेंद्र चावला

मुंबई। ‘ये उन दिनों की बात है’ और ‘सास बिना ससुराल’ जैसे धारावाहिकों से पहचान पाने वाले अभिनेता राजेंद्र चावला का कहना है कि व्यावसायिक पृष्ठभूमि से आने के कारण उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि वह कभी अभिनेता बनेंगे। राजेंद्र ने अपने जीवन पर बात करते हुए एक बयान में कहा कि यह फिल्म और टीवी उद्योग में से चयन का प्रश्न है। रोचक बात ये है कि मैं व्यावसायिक पृष्ठभूमि से हूं। मैंने खुद को अभिनेता के तौर पर कभी नहीं देखा था।

एक्टर राजेंद्र चावला

उन्होंने कहा, “मैं पढ़ाई से दूर रहा करता था तो मेरे घरवालों ने मुझ पर अपनी जिंदगी का फैसला लेने का दबाव डाला, जिसके बाद पिता की सहायता से मैं अभिनय के क्षेत्र में आ गया। उन्होंने ‘जिंदगी के क्रॉसरोड्स’ के एक एपिसोड में अभिनय किया, जिसमें उन्होंने मुंशी जी का किरदार निभाया था। इसकी कहानी एक व्यक्ति की ईमानदारी के इर्द-गिर्द घूमती है। वह व्यक्ति कभी किसी व्यक्ति का बुरा नहीं करना चाहता है तथा हमेशा खुद में विश्वास करता है।

राजेंद्र ने कहा, “शो में मेरा किरदार बहुत ईमानदार और सरल व्यक्ति है। मेरे पिता मेरे आदर्श और प्रेरणा हैं इसलिए यह किरदार करते समय मेरे दिमाग में सिर्फ उनकी छवि थी। राजेंद्र फिल्म ‘अ वेड्नेसडे’ और ‘एम.एस. धोनी : द अनटोल्ड स्टोरी’ में भी अभिनय कर चुके हैं।

Related Articles