अवैध कब्जेदारों के मामले में लेखपालों पर चला ADM का चाबुक

महोबा: उत्तर प्रदेश के महोबा जिले में सरकारी जमीनों पर अवैध कब्जेदारों के विषय में गलत सूचना देने के मामले में लेखपालों पर एडीएम का चाबुक चला है। ADM रमेश कुमार ने राजस्व विभाग के 6 लेखपालों को निलंबित कर दिया है। और 84 के खिलाफ अभी तलवार लटकी हुई है। उनकी अभी जांच चल रही है।

अपर जिलाधिकारी रमेश कुमार ने बताया कि जिले में सरकारी जमीनों, तालाबों की भूमि पर अवैध कब्जों की प्राप्त हुई बड़ी संख्या में शिकायतों पर जिला मजिस्ट्रेट सत्येंद्र कुमार ने तीनों तहसीलों महोबा, चरखारी और कुलपहाड़ के लेखपालों से रिपोर्ट तलब की थी। इन रिपोर्ट के आधार पर जमीनों को कब्जा मुक्त कराने के लिए तहसीलवार एंटी भू माफिया टीम गठित की गई थी। टीम में उप जिलाधिकारी, तहसीलदार और नायब तहसीलदार शामिल किए गए थे। टास्क फोर्स की टीमों ने अपने क्षेत्रों में लेखपालों की रिपोर्ट को परखा ओर आवश्यकतानुसार कब्जा मुक्ति अभियान भी चलाया था।

ADM ने बताया कि टास्क फोर्स की टीम को महोबा ओर चरखारी तहसीलों में अनेक स्थानों पर सरकारी जमीनों व तालाबों में अवैध कब्जे मिले। लेखपालों की रिपोर्ट झूठी पाए जाने और सरकारी जमीनों से कब्जा मुक्ति के अभियान में उनका सहयोग न मिलने पर चरखारी तहसील के लेखपाल शेख रहीम,विजयपाल, रविकुमार और महोबा तहसील क्षेत्र के लेखपाल इंद्रपाल सिंह, नरेश सिंह और सतवंत पाल को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। इसके साथ ही 84 अन्य लेखपालों के खिलाफ विभागीय जांच बैठाई गई है।

यह भी पढ़ें: राजधानी के लोगों पर कुदरत की दोहरी मार, 352 पर पहुंचा AQI

Related Articles