एक साल बाद गंगा मइया ने लेटे हुए हनुमानजी को कराया स्नान, भक्तों ने लगाए जयकारे, देखें वीडियो

प्रयागराज: संगम नगरी में गंगा और यमुना का जलस्तर लगातार तेजी से बढ़ता जा रहा है। दोनों नदियों का जलस्तर 5 से 7 सेंटीमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा है। लेकिन गंगा का पानी गुरुवार को संगम स्थित लेटे हुए हनुमान मंदिर में ज़रूर प्रवेश कर गया और गंगा मां ने हनुमान जी महाराज को स्नान करवा दिया है। मां गंगा के हनुमान मंदिर में प्रवेश करते ही वहां के महंतों -पुजारियों और श्रद्धालुओं ने शंख और घंटे बजाकर गंगा मैया का स्वागत किया।

सभी भक्तों ने गंगा मइया व बजरंग बली के एक साथ दर्शन किये। गंगा का पानी आने पर मंदिर में विशेष पूजा- अर्चना और आरती भी की गई। मान्यता है कि जिस वर्ष मां गंगा हनुमान जी को संगम स्नान कराती हैं, उस वर्ष देश में खुशहाली और संपन्नता आती है। बताया जा रहा है कि करीब एक साल बाद गंगा मइया ने हनुमानजी को स्नान कराया है।

दूसरे राज्यों से छोड़ा पानी बना मुसीबत

दूसरे राज्यों से भारी मात्रा में पानी गंगा और यमुना में छोड़ा गय़ा है, जब वह प्रयागराज की सीमा में पहुंचेगा तो यहां के लोगों के लिए मुसीबत बनते जा रहा है। वहीं, बाढ़ की स्थिति को देखते हुए प्रशासन ने शहर और निचले इलाकों में रहने वालों को सुरक्षित जगहों पर जाने के लिए कहा है।हालांकि, दोनों नदियां अभी खतरे के निशान से काफी दूर हैं।

हनुमानजी के स्नान की मान्यता

एक तरफ जहां बाढ़ के कारण लोगों के लिए मुसीबत बनी हुई है तो वहीं, गुरुवार को दोपहर में मां गंगा का हनुमान मंदिर में प्रवेश कर जाने से शहर वासियों और संत समाज में खुशी की लहर है और इसे शुभ माना जाता है, मान्यता है कि जिस वर्ष गंगा जी हनुमान जी को स्नान कराती है, उस वर्ष प्रदेश और देश भर में खुशहाली संपन्नता आती है। इसलिए मंदिर में प्रवेश करती हुई गंगा मां का घंटा घड़ियाल बजाकर स्वागत किया गय़ा। जलधारा पर पुष्प वर्षा करके मंत्रोच्चारण के साथ उनके आगमन पर मां गंगा की आराधना के साथ ही विधि विधान के साथ पूजा अर्चना की गई।

Related Articles