शराब के बाद अब यूपी में पान मसाला की बिक्री को भी मिली मंजूरी, तंबाकू पर जारी रहेगा बैन

लखनऊ. लॉकडाउन के तीसरी चरण (Lockdown 3.0) में शराब बिक्री की शुरुआत के साथ ही अब उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में पान मसाला बेचने की भी अनुमति दे दी गई है. खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग ने बुधवार को इस बाबत आदेश जारी करते हुए कहा कि प्रदेश में जनस्वास्थ्य को देखते हुए पान मसाला के उत्‍पादन, वितरण और विक्रय पर लगाए गए प्रतिबंध को तत्काल प्रभाव से समाप्त किया जाता है. हालांकि, प्रदेश में तंबाकू, निकोटिनयुक्त पान मसाला, गुटका का निर्माण, भंडारण और बिक्री पर प्रतिबंध जारी रहेगा.

एफएसडीए के इस आदेश को आम बोलचाल की भाषा में समझें तो कह सकते हैं कि रजनीगंधा तो बिकेगा, लेकिन तुलसी नहीं बिकेगी. साथ ही अब पान की बिक्री भी शुरू हो सकेगी. गौरतलब है कि लॉकडाउन की वजह से महोबा के पान किसान भुखमरी की कगार पर पहुंच गए थे. अब इस फैसले से पान किसानों को राहत मिलेगी.

साक्षी महाराज ने उठाए सवाल
उन्नाव से बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने शराब और पान मसाले की बिक्री शुरू करने पर योगी सरकार से नाराजगी जताई है. उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि लॉकडाउन जनता के जीवन रक्षा और बढ़िया स्वास्थ्य के लिए है, तो फिर शराब, बीड़ी, सिगरेट, गुटका, पान पराग आदि नशीले पदार्थों की बिक्री पर छूट क्यों?

एक अन्य बीजेपी सांसद ने भी उठाए सवाल
भाजपा सांसद सत्यदेव पचौरी ने सीएम योगी को लिखे अपने पत्र में शराब की बिक्री के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन न होने का हवाला देते हुए दुकानें बंद करने का आग्रह किया है. पत्र में लिखा है कि सरकार ने कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन लगाकर 40 दिनों तक मेहनत की है. सीएम योगी की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा है कि आपके कुशल नेतृत्व में COVID-19 जैसी महामारी पर नियंत्रण का प्रयास किया जा रहा है, लेकिन 4 मई से लॉकडाउन में कुछ छूट दी गई है, जिसमें शराब की दुकानों को खोलने की अनुमति भी शामिल है.

Related Articles