UP में ब्राह्मण के बाद अब Dalit Vote Bank के लिए मचा सियासी महासंग्राम

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव 2022 का आगाज हो चुका है, जिसकी तैयारियों में जुटे राजनीतिक दलों ने ब्राह्मण वोट के बाद अब दलित वोटों को अपने पाले में लाने के लिए जुट गए हैं

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में विधानसभा चुनाव 2022 का आगाज हो चुका है। जिसकी तैयारियों में जुटे राजनीतिक दलों ने ब्राह्मण वोट (Brahmin vote) के बाद अब दलित वोटों (Dalit votes) को अपने पाले में लाने की चिंता सताने लगी है और इसके लिए वह कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं। कोई दलित चेतना यात्रा निकाल रहा है तो कोई आदिवासी दिवस मनाने की तैयारी में है। चाहे सपा (SP) हो, कांग्रेस (Congress) हो या फिर भाजपा (BJP) सब दलितों को साधने में लगे हुए हैं। यूपी में ब्राम्हणों के बाद सबसे ज्यादा इसी वोट बैंक के लिए संग्राम छिड़ा हुआ है।

विश्व आदिवासी दिवस

यूपी विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Election) के लिए जाति-वर्गों के वोट समेटने का प्रयास कर रही समाजवादी पार्टी (SP) की नजर आदिवासियों पर भी है। सपा अनुसूचित जनजाति प्रकोष्ठ की बैठक में जातीय जनगणना कराने की सरकार से मांग के साथ विश्व आदिवासी दिवस (World Tribal Day), सोनभद्र में मनाने का निर्णय लिया गया है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने कहा कि जल, जंगल, जमीन से बेदखल हो रहे आदिवासियों को उनके हक SP की सरकार बनने पर दिलाए जाएंगे। उनके हित में योजनाएं भी बनेंगी।

यूपी की राजनीति बहुत हद तक जातीय समीकरणों पर ही टिकी है। दलों की रणनीति भी इसी पर है। दलितों का वोट गवां चुकी कांग्रेस को लगता है राज्य में पिछड़ो के वोट के लिए ज्यादा मार हो रही है। इसीलिए उसने दलितों की ओर अपना फोकस करना शुरू कर दिया है। अभी तक दलितों का एकमुस्त वोट मायावती (Mayawati) के कब्जे में रहा है, लेकिन 2014 के बाद से इसमें कुछ वर्ग छिटक कर BJP की ओर आया है। मायावती की दूसरी लाइन की लीडरशिप ढलान पर देखते हुए कांग्रेस को लगता है कि दलित वर्ग अब माया के झांसे से बाहर आएगा। इसीलिए उसने इस दलित वोट बैंक (Dalit Vote Bank) को अपने पाले पर लाने की जुगत लगानी शुरू की है।

यह भी पढ़ेPM Kisan Samman Nidhi Scheme की 9वीं किश्त जारी, किसानों के खाते में आएंगे इतने रुपये

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles