2022 यूपी विधानसभा चुनाव में बसपा के बाद सपा की ब्राह्मणों पर नजर

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में होने वाले 2022 विधानसभा चुनाव से पहले सभी दल ब्राह्मणों को लुभाने में लगे हुए है। बसपा सुप्रीमो मायावती के बाद समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की नजर भी अब ब्राह्मण वोट पर है। सपा अब जल्द ही ब्राह्मण सम्मेलन Brahmin Sammelan) करने जा रही है। इसी कड़ी में अखिलेश यादव ने आज रविवार को पार्टी के पांच ब्राह्मण नेताओं से मुलाकात भी की।

यूपी के बलिया जिले सपा का ब्राह्मण सम्मेलन शुरू होगा। अखिलेश यादव से मुलाकात में ब्राह्मण नेताओं ने भगवान परशुराम की प्रतिमा भेंट की। इस मुलाकात के बाद मीडिया से ब्राह्मण चेतना मंच और सपा के पूर्व विधायक संतोष पांडे ने कहा है कि ”आज हुई राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात के बाद समाजवादी पार्टी ने ब्राह्मण सम्मेलन करने का फैसला लिया है।”

जीत का मंत्र

आपको बता दें कि यूपी में विधानसभा चुनाव नजदीक है और सभी दल इस समय कमर कस चुकी है और इस बार की राजनीति में ब्राह्मण वोट पर सबकी नजर है। यूपी में 13 फीसदी ब्राह्मण हैं, जिनके वोट्स विभिन्न दल हासिल करना चाहते हैं। सपा से पहले बसपा ने भी प्रबुद्ध वर्ग संवाद सुरक्षा सम्मान विचार गोष्ठी यानी ब्राह्मण सम्मेलन की शुरुआत की थी। इसकी शुरुआत 23 जुलाई से अयोध्या से की थी, ब्राह्मण सम्मेलन पांच चरण में होगा।

अयोध्या में सतीश मिश्रा

बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने 23 जुलाई से कार्यक्रम का शुभारंभ किया था। उन्होंने अयोध्या में रामलला के दर्शन और हनुमान गढ़ी में पूजा-पाठ करने के बाद कहा था कि अगर यूपी के 13 फीसदी ब्राह्मण और 23 फीसदी दलित मिलकर भाईचारा कायम करें तो राज्य में बसपा की सरकार बनने से कोई नहीं रोक सकता है।

 

Related Articles