नोटबंदी के बाद RBI में बैंकों ने जमा किये एक करोड़ पांच लाख रुपये के नकली नोट, FIR दर्ज

नोटबंदी के बाद RBI में बैंकों ने जमा किये एक करोड़ पांच लाख रुपये के नकली नोट, FIR दर्ज

लखनऊ: लखनऊ के महानगर थाने में आरबीआई ने नकली नोट को लेकर मुकदमा दर्ज कराया है। बता दें रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के करेंसी चेस्ट में नोटबंदी के बाद एक करोड़ पांच लाख रुपये के नकली नोट साल 2017-18 के बीच जमा हुए हैं। जांच के बाद आरबीआई की सहायक प्रबंधक रंजना मरावी ने महानगर कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया है।

एफआईआर में कहा गया कि विभिन्न बैंकों में 2017 से 2018 के बीच में करोड़ों रुपये जमा कराये गये। जिसमे अक्टूबर 2017 से मार्च 2018 के बीच में जमा किये गये नोटों में एक करोड़ पांच लाख रुपये जाली मिले हैं। इस पूरे मामले को लेकर पुलिस ने फोरेंसिस टीम से नोटों की जांच में मदद भी मांगी है।

ये भी पढ़ें : 1000 दलित स्टार्टअप खोलने की तैयारी में केंद्र सरकार, 308 करोड़ रुपये का है बजट 

बता दें कि साल 2017 से 2018 के बीच में नोटबंदी के बाद अलग-अलग बैंकों ने आरबीआई में एक करोड़ पांच लाख रुपये के नकली नोट जमा करवाए हैं। आरबीआई की करेंसी में 500 रुपए के 9753 और 1000 के 5783 जाली नोट मिले हैं।

 क्या होती है नए असली नोटों की पहचान –

  • 500 का नोट स्टोन-ग्रे कलर में होता है, इसका साइज 63 मिमी गुणा 150 मिमी होता है।
  • 500 के नोट में स्वच्छ भारत अभियान का लोगो लगा हुआ है।
  • थोड़ा मोड़ने पर इसमें लिखा नोट का मूल्य दिखाई देगा जबकि नकली नोट में ये मार्क नहीं दिखाई देगा।
  • 2000 के नोट का बेस कलर मैजेंटा है और नोट के फ्रंट पर महात्मा गांधी और पीछे की तरफ मंगलयान की तस्वीर है।
  • 2000 के नोट को हल्का से मोड़ने पर थ्रेड का कलर हरे से बदलकर नीला हो जाता है।
  • सिक्योरिटी थ्रेड पर भारत, आरबीआई और 2000 लिखा हुआ होता है।

Related Articles