फ्रांस के खिलाफ बांग्लादेश में भड़का गुस्सा, फ्रेंच उत्पादों के बहिष्कार के समर्थन में उतरे लोग

अरब देशों के बाद बांग्लादेश में भी लोगों ने फ्रेंच उत्पादों के बहिष्कार की मांग की है।

नई दिल्लीः फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनूअल मैक्रों द्वारा इस्लामोफोबिया के पक्ष में बयान देने के बाद बांग्लादेश में भी फ्रांस के खिलाफ गुस्सा भड़क गया है। अरब देशों के बाद बांग्लादेश में भी लोगों ने फ्रेंच उत्पादों के बहिष्कार की मांग की है।

दरअसल फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने फ्रांस की मशहूर पत्रिका शार्ली हेब्दो में पैगंबर मोहम्मद पर छपे कार्टून का समर्थन करते हुए सेक्युलरिज्म का पक्ष लिया था। जिसके बाद से मैक्रों इस्लामिक देशों के निशाने पर हैं।

इसी कड़ी में बांग्लादेश की राजधानी ढाका में फ्रेंच उत्पादों का बहिष्कार करने की मांग की गयी है। जिसके पक्ष में ढाका की सड़कों पर हजारों की संख्या में लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया। फ्रांस के विरोध में नारे लगाते हुए कई प्रदर्शनकारी ढाका स्थित फ्रांस के दूतावास की तरफ बढ़ रहे हालांकि पुलिस उन्हें रोकने कामयाब रही।

गौरतलब है कि इससे पहले तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप अर्दोआन के आह्वान पर सऊदी अरब, कुवैत सहित कई अरब देशों ने अपने देश में फ्रांस के उत्पादों को बैन कर दिया है। हाल ही में अर्दोआन ने अपने भाषण में फ्रेंच उत्पादों का बहिष्कार करने की अपील करते हुए कहा था कि, ”जिस तरह से दूसरे विश्व युद्ध के बाद यहूदियों को निशाना बनाया जा रहा था उसी तरह से मुसलमानों के खिलाफ अभियान चल रहा है। यूरोप के नेताओं को चाहिए कि वे फ्रांस के राष्ट्रपति को नफरत भरे अभियान रोकने के लिए कहें।”

Related Articles

Back to top button