अयोध्या की विवादित जमीन पर हिंदू-मुस्लिमों के बाद अब इस धर्म ने ठोका दावा

0

लखनऊ: वर्षों से अयोध्या की विवादित भूमि पर अपना-अपना दावा ठोक रहे हिंदू और मुस्लिमों के बाद अब बौद्ध धर्म के लोगों ने इसे अपने धर्म का हिस्सा बताया है. सुप्रीम कोर्ट में दाखिल एक याचिका में कहा गया है कि खुदाई के दौरान यहां बौद्ध धर्म से जुड़े अवशेष मिले थे जो यह साफ करते हैं कि यह विवादित जमीन बौद्ध धर्म से संबंधित है.

बौद्ध धर्म के लोगों का दावा बौद्ध स्थल था विवादित जमीन 

गौरतलब है की, याचिका में कहा गया है की यहां पर पहले एक बौद्ध स्थल था. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने बौद्ध धर्म के लोगों की याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया है. कोर्ट ने कहा कि मुख्य मुद्दे की सुनवाई वाली बेंच ही कर सकती है सुनवाई.

बाबरी मस्जिद के निर्माण से पहले बौद्ध धर्म से जुड़ा ढांचा था

कहा गया है कि यह याचिका  बौद्ध समुदाय के उन सदस्यों की तरफ से दायर की गई है जो भगवान बुद्ध के सिद्धांतों के आधार पर अपनी जीवन जी रहे हैं.याचिका में दावा किया गया है कि बाबरी मस्जिद के निर्माण से पहले उस जगह पर बौद्ध धर्म से जुड़ा ढांचा था. मौर्य ने अपनी याचिका में कहा है, ‘एएसआई की खुदाई से पता चला है कि वहां स्तूप, गोलाकार स्तूप, दीवार और खंभे थे. इससे साफ जाहिर होता है कि किसी बौद्घ विहार की विशेषता होते हैं.’

किसी हिन्दू सरंचना के भी नहीं मिले अवशेष 

याचिकाकर्ता ने दावा किया है कि खुदाई के दौरान 50 जगहों पर खुदाई के बाद भी हिंदू मंदिर और किसी भी हिंदू संरचना के अवशेष नहीं मिले थे. बता दें कि 14 मार्च को हुई सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने सभी याचिकाओं को रद्द कर दिया है और शीर्ष अदालत का कहना है कि अब सिर्फ मुख्य याचिकाओं पर ही सुनवाई होगी.

 

loading...
शेयर करें