MP में महिला को दरिंदों ने ‘नोंचा’, इन देशों में हैं रेप के सख्त कानून

मामला है मध्य प्रदेश का, जहां 3 लोगों ने मिलकर एक विधवा महिला का बलात्कार कर दिया। बलात्कार के बाद महिला को जान से मारने के लिए और सबुत मिटाने के लिए दरिंदों ने उसके प्राइवेट पार्ट में 4 फुट लंबी लोहे की सरिया डाल दिया।

नई दिल्ली: हर रोज की तरह आज फिर एक महिला का सामूहिक बलात्कार कर दिया गया। हैवानियत इस कदर की बलात्कार के बाद महिला के प्राइवेट पार्ट में सरिया डाल दिया गया। यह मामला है मध्य प्रदेश का, जहां 3 लोगों ने मिलकर एक विधवा महिला का बलात्कार कर दिया। बलात्कार के बाद महिला को जान से मारने के लिए और सबूत मिटाने के लिए दरिंदों ने उसके प्राइवेट पार्ट में 4 फुट लंबी लोहे की सरिया डाल दिया। महिला को अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है जहां उसकी हालत नाजुक बताई जा रही है।

कब बदलेगा हमारा देश?

कितना अजीब है न हमारे देश में देवीयों की पूजा की जाती है। उनसे मन्नत मांगी जाती है, काम पूरा होने के बाद उन्हें प्रसाद भी चढ़ाया जाता है। लेकिन यह सब सिर्फ मंदिर के अंदर लगी मूर्तियों तक ही सीमित रह जाता है। क्योंकि बाहरी दुनिया में महिलाओं (जिन्हें देवी कहा जाता है)  को इंसान मानना तो दूर, उनके साथ जानवर से भी बद्दतर सूलूक किया जाता है। हर दिन, हर मिनट और हर सेकेंड में हजारों बलात्कार के मामले सामने आते हैं , जिसे हम लिखते हैं और आप पढ़ते हैं। लेकिन यह सिलसिला सिर्फ लिखने और पढ़ने तक ही सीमित रह जाता है।

क्योंकि न तो यह देश बदलने वाला है और न ही महिलाओं के साथ  होने वाली ये दरिंदगी रुकने वाली है। हर रोज तरह-तरह के नियम लागू किये जाते हैं। औरतों को फ्री बस सेवा दी जाती है, मेट्रो में स्पेशल सीट दी जाती है, टिकट खरीदने के लिए अलग से लाइन भी दी जाती है। कितना कुछ तो मिलता है हमें नहीं मिलता तो बस उन हवस भरी निगाहों से छुटकारा, नहीं मिलती तो बस बिना डरे सड़कों पर चलने की आजादी। बाहर की दुनिया तो छोड़ ही दीजिए हमें यानी की औरतों को तो घर में भी बच कर ही रहना पड़ता है।

समझ नहीं आता कि औरतों के साथ हो रही ये दरिंदगी ऊपर बैठे सरकार को नजर नहीं आती। यह नजर आते हुए भी नजरअंदाज करने की आदत पड़ चुकी है। इस दरिंदगी में 5 साल की बच्ची से लेकर 85 साल तक की बुजुर्ग भी नहीं बची। लेकिन हम सब ने  अपनी आंखें मानो मूंद ली हो। बस वहीं रोज खबर लिखेंगे लोग हाथ में चाय का कप लेकर खबर पड़ेंगे, थोड़ी देर अफसोस भी करेंगे और फिर क्या फिर लग जाएंगे अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में।

ये हैवानियत सिर्फ बलात्कार तक ही नहीं रुकती, ये बलात्कार किए हुए शरीर को पूरा नोच खाने के बाद जाकर रूकती है। निर्भया कांड के बाद जब लोगों ने कैंडल मार्च निकाला, लड़ाई लड़ी गई तो एक उम्मीद जगी की शायद अब इस दरिंदगी पर थोड़ा बहुत पूर्णविराम लगेगा। लेकिन नहीं, यह सिलसिला तो अब चलता ही रहेगा। क्योंकि इस पर एक्शन लेने वालों ने अपनी आंखों को बंद कर लिया है। कान के पर्दे बंद कर लिए हैं और चुप्पी साध ली है। बाकि अफसोस जताने के लिए ट्विटर तो है ही, एक ट्वीट करके अफसोस जता देंगे और क्या।

अलग-अलग देशों में कैसी है रेप की सजा?

उत्तर कोरिया

उत्तर कोरिया बालात्कार को लेकर सबसे सख्त माना जाता है। यहां रेप के अपराधियों के लिए सिर्फ मौत की सजा है। बलात्कारियों को यहां सरेआम सिर में गोली मार दी जाती है।

सऊदी अरब

सऊदी अरब में कोई भी इंसान बलात्कार करने से पहले हजारों बार सोचेगा। दरअसल यहां बलात्कारियों का प्राइवेट पार्ट ही काट दिया जाता है।

इराक

इराक में बलात्कारियों को पत्थर से इस तब तक मारा जाता है जब तक उसकी मौत नहीं हो जाती है।

पौलेंड

शायद ही आपने सुना हो कि बलात्कार करने वाले अपराधियों को सुअर से कटवाया जाता हो। पौलेंड में बलात्कारी को सजा देने के लिए सुअर से कटाया जाता है।

इंडोनेशिया

यहां बलात्कार के अपराधी को नापुंसक बनाने के साथ ही उसमें महिलाओं के हार्मोन्स डाल दिए जाते हैं।

Related Articles