पिता के मौत के बाद बच्चे ने अपने परिवार का पेट पालने के लिए उठाया ऐसा कदम, इस तरह से बदली किस्मत 

नई दिल्ली: बिहार के पश्चिम चंपारण के बगहा क्षेत्र के एक असहाय परिवार के लिए यह सोशल मीडिया ‘वरदान’ साबित हुआ. बगहा नगर क्षेत्र के वार्ड नंबर 10 में रहने वाले राजन गोड़ का निधन चार माह पहले हो गया था. राजन ही अपनी 55 वर्षीय विधवा मां, पत्नी और छह बच्चों के भरण पोषण का एकमात्र सहारा थे. राजन की मौत के बाद पूरा परिवार अनाथ और असहाय हो गया.

शेरनी अपने बच्चों के साथ घूम रही थी सड़क पर, जैसे ही बाइक लेकर आया किसान तो हुआ ऐसा… देखें Video

राजन की मौत के बाद पूरे परिवार पर मानों दुखों का पहाड़ टूट गया. इन सभी की सामने जीवन जीने के लिए दो शाम भोजन का भी कोई सहारा नहीं रहा. इसके बाद परिजनों का पेट भरने के लिए नौ वर्षीय सुनील को पिता से विरासत में मिला भूजा और आलूचॉप का ठेला ही सहारा बना.

स्थानीय लोग कहते हैं कि 9 वर्ष का सुनील रोज सुबह घर से ठेला लेकर रेलवे स्टेशन के बाहर लगाने लगा और भूजा और आलूचॉप बेचने लगा. इस मासूम की जद्दोजहद के बीच एक सप्ताह पहले स्थानीय एक व्यक्ति और सामाजिक कार्यकर्ता अजय पांडेय की नजर पड़ी जो हाड़ हिला देने वाली ठंड में ग्राहकों के इंतजार में अपने ठेला के पास खड़ा था. अजय पांडेय ने इस तस्वीर और सुनील से पूछताछ के बाद उसके परिजनों की कहानी अपने फेसबुक वॉल पर पोस्ट कर दी

‘Minnie Mouse’ ने कर दी महिला की पिटाई, बाल खींच-खींचकर ऐसे मारे मुक्के… देखें Viral Video

फेसबुक पोस्ट पर मिली प्रतिक्रिया ने लोगो को मदद के लिए किया प्रेरित किया. इस पोस्ट ने सुनील की जिंदगी बदल दी. लोग बड़ी संख्या में मदद के लिए सामने आने लगे. एक सप्ताह के अंदर फेसबुक पर यह पोस्ट संवेदना का केंद्र बन गया. सुनील के पड़ोसी हरि प्रसाद भी सुनील के परिजनों की मदद के लिए आगे आए और उसे फिर से स्कूल में नामांकन करवाया. हरि अन्य अभिभावक की तरह सुनील को प्रतिदिन स्कूल पहुंचाने जाते हैं.

Coronavirus: चीन में पाकिस्तानी स्टूडेंट्स गिड़गिड़ा रहे पीएम इमरान से, बोले- ‘शर्म करो पाक सरकार, भारत से सीखो…’ देखें Video

सामाजिक कार्यकर्ता अजय ने सुनील की मां का बैंक में खाते भी खुलवा दिया और अपने फेसबुक पर एकाउंट नंबर भी शेयर कर दिया. अजय कहते हैं कि बैंक खाता में भी लोग नकद राशि भेजकर परिवार को मदद कर रहे हैं. अजय कहते हैं कि सुनील की मां के खाता में लोग करीब 45 हजार रुपये नकद भेज चुके हैं.

सुनील की दादी के लिए स्थानीय लोग अब इंदिरा आवास दिलाने के लिए प्रयासरत हैं. सुनील भी इस प्रयास की प्रशंसा करते नहीं थक रहा. सुनील कहता है कि वह पढ़-लिखकर अधिकारी बनना चाहता है. वह मदद के लिए आए आए लोगों का आभार भी जताता है. इलाके में इस असहाय परिवार की सोशल मीडिया से मदद की चर्चा हो रही है.

Related Articles