खिलाड़ियों के बाद अब शिक्षा विभाग के लिए तानाशाह बनी खट्टर सरकार, नया फरमान जारी

नई दिल्ली। हरियाणा में शिक्षा विभाग ने एक नया फरमान लागू कर सभी अधिकारियों के लिए नई मुसीबत पैदा कर दी है। शिक्षा विभाग के इस नये रूल के हिसाब से अब सभी अधिकारियों को किसी भी सांसद, मंत्री और विधायक के आने पर उनके सम्मान में खड़े होना पड़ेगा। ऐसा ना करने वाले अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई का प्रावधान किया गया है।

सिसोदिया, जैन को अस्पताल से मिली छु़ट्टी, 9वें दिन भी केजरीवाल…

हरियाणा में शिक्षा विभागखबरों के मुताबिक़ सरकार की ओर से जारी सर्कुलर में कहा गया है कि अफसरों को सांसदों या विधायकों के प्रति सम्मान दिखाना चाहिए। सरकारी कर्मचारियों का व्यवहार विनम्र होना चाहिए।

तेज रफ्तार एंबुलेंस ने साइकिल और बाइक को मारी टक्कर, 3…

सर्कुलर में ये भी कहा गया है कि अफसर सांसदों, विधायकों और मंत्रियों के फोन नजरअंदाज नहीं करेंगे। अगर अफसरों के इलाके में कोई कार्यक्रम हो तो सांसद, मंत्री या विधायक को उस कार्यक्रम में जरूर बुलाएं।

गौरतलब है कि हरियाणा की खट्टर सरकार अक्सर अपने विवादित आदेशों को लेकर सुर्खियों रहती है। हाल ही में, राज्य सरकार ने खिलाड़ियों को एक फरमान जारी किया था।

खेल मंत्रालय ने खिलाड़ियों को अधिसूचना जारी कर विज्ञापनों और पेशेवर खेल के जरिए कमाई जाने वाली राशि का 33 फीसदी हिस्सा हरियाणा स्पोर्ट्स काउंसिल में जमा करवाने का आदेश दिया था।

इस फरमान के विरोध में प्रदेश के खिलाड़ियों ने अपनी आवाज बुलंद की और सरकार के विरोध में खड़े हो गए। उन्होंने सरकार के इस आदेश को बेबुनियाद और बेतुका बताया। विरोध बढ़ता देख सरकार को अपने इस सर्कुलर पर रोक लगानी पड़ी।

Related Articles