राफेल डील पर सरकार के समर्थन में आयी वायुसेना, कहा- आधुनिकीकरण जरूरी

0

नई दिल्लीः विपक्ष जहां राफेल डील मोदी सरकार पर लगातार अरोप लगा रही है, वहीं वायुसेना ने इसका समर्थन किया है। वायुसेना चीफ बीएस धनोआ ने इसे हवाई सीमाओं के लिए बहुत अहम बताया है। धनोआ ने पड़ोसी देश चीन और पाकिस्तान का जिक्र करते हुए राफेल आवश्यक बताया है।

धनोआ ने कहा कि हमारी स्थिति अलग है। हमारे पड़ोसी देश परमाणु संपन्न हैं और वे अपने विमानों का आधुनिकीकरण कर रहे हैं। राफेल के जरिए हम मुश्किलों का सामना कर पाएंगे।

‘भारतीय वायुसेना की संरचना, 2035’ पर एक संगोष्ठी में धनोआ ने कहा, ‘राफेल और S-400 के जरिए सरकार वायुसेना को लगतार मजबूत कर रही है।’ चीफ ने कहा, ‘ भारतीय वायुसेना के पास 42 स्क्वॉड्रन के मुकाबले हमारे पास 31 ही मौजूद हैं। उन्होंने कहा कि 42 की संख्या होने पर भी यह पर्याप्त नहीं होगा।’ पिछले एक दशक में चीन ने भारत से लगे स्वायत्त क्षेत्र में रोड, रेल और एयरफील्ड का तेजी विस्तार किया है।’

उन्होंने कहा हमारे सूत्रों के मुताबिक चीन के पास करीब 1700 एयरक्राफ्ट हैं जिनमें, 800 फोर्थ जेनरेशन के हैं। इसका इस्तेमाल हमारे खिलाफ किया जा सकता है।

पाकिस्तान ने भी F-16 विमानों के फ्लीट को अपग्रेड किया है और उसे चौथे और पांचवें जनेरेशन में बदल रहा है। इसके अलावा पाकिस्तान JF17 विमान को भी शामिल कर रहा है।

इसलिए हमें भी अपने विमानों को अपग्रेड करना होगा। उन्होंने कहा, ‘हमें किसी प्रकार के संघर्ष की स्थिति को रोकने के लिए पूरी तैयारी करनी होगी। ताकि अगर दो मोर्चे पर भी लड़ना पड़े तो हम तैयार रहें।’

ये भी पढ़ें…..भारतीय सेना का बड़ा खुलासा, इसलिए तेंदुए के मल-मूत्र के साथ हुई थी सर्जिकल स्‍ट्राइक

धनोआ ने कहा, ‘राफेल जैसे हाइटेक विमान हमारी जरूरत हैं क्योंकि तेजस अकेले मुश्किलों का सामना नहीं कर सकता है।’ उन्होंने कहा कि देश को विपक्षी देशों के मुकाबले खुद को मजबूत करने की जरूरत है।

loading...
शेयर करें