Ajit Singh Murder Case: विकास दुबे की तरह मारा गया शूटर गिरधारी

लखनऊ: मऊ के हिस्ट्रीशीटर अजीत सिंह की हत्या का मुख्य शूटर गिरधारी पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में मारा गया है। गिरधारी पुलिस की हिरासत से भागने की कोशिश की थी। जिसके बाद वह मुठभेड़ में सहारा अस्पताल के पास मारा गया। पुलिस ने इससे पहले विकास दुबे को भी ऐसी ही ढेर किया था।

पुलिस मुठभेड़ में गिरधारी ढेर

अजीत सिंह की हत्या मामले में शूटर गिरधारी पुलिस की हिरासत में चल रहा था। रविवार की रात विभूतिखंड पुलिस और वाराणसी पुलिस ने कई घंटे गिरधारी से पूछताछ की थी। पुलिस ने बताया कि तड़के उसने पुलिस हिरासत से भागने की कोशिश की थी। इस दौरान उसने पुलिस पर गोली चलाई जिसमें जवाबी फायरिंग में उसे गोली लगी और उसकी मौत हो गई।

बता दें कि गिरधारी इससे पहले वाराणसी में नितेश की हत्या में फरार चल रहा था। तब उसपर एक लाख रुपये का इनाम भी रखा गया था। पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर ने बताया कि गिरधारी के खिलाफ कई केस दर्ज थे। उसने पुलिस पर भी गोली चलाई। सहारा अस्पताल के पास उसने भागने का प्रयास किया जिसमें मारा गया। पुलिस कमिश्नर के मुताबिक इस मामले में अभी शूटर रविदेव, मुस्तफा, अंकुर, राजेश तोमर और मददगार विपुल अभी फरार चल रहे हैं।

पुलिस मुठभेड़ में गिरधारी ढेर
पुलिस मुठभेड़ में गिरधारी ढेर

विकास दुबे की तरह मारा गया गिरधारी

कानपुर में पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में पुलिस ने जैसे विकास दुबे को मारा था। वैसे ही गिरधारी को मार गिराया है। बता दें कि पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में विकास दुबे फरार चल रह था। जिसे मध्यप्रदेश से गिरफ्तार कर यूपी पुलिस उसे यूपी ला रही थी। तभी रास्त में विकास दुबे ने पुलिकी हिरासत से भागने की कोशिश की। जब पुलिसकर्मियों ने उसे पकड़ने की कोशिश की तो उसने उसपर फायरिंग करना शुरु कर दिया। जिसकी जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने मुठभेड़ के दौरान मार गिराया। इसी की तरह राजधानी लखनऊ में अजीत सिंह की हत्या के मामले में शूटर गिरधारी भी पुलिस की हिरासत से भागने की कोशिश की थी। जिसमें पुलिस ने उसे मार गिराया।

यह भी पढ़ें: ग्रेटा थनबर्ग टूलकिट मामला : 21 साल की एक्टिविस्ट बेंगलुरु से गिरफ्तार

Related Articles

Back to top button