अखिलेश ने किया पार्टी कार्यालय में ‘मंथन’, नेताओं कार्यकर्ताओं को दिया ‘जीत का मंत्र’, दिया बड़ा बयान

सपा नाम बदलने में नहीं सिर्फ विकास में विश्वास रखती है.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी में लगी समाजवादी पाटी ने पार्टी कार्यालय में गहन मंथन किया. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने जिला व महानगर अध्यक्ष के साथ ही विधानसभा क्षेत्र के अध्यक्षों के साथ विभिन्न चरण में बैठक की. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कांग्रेस के महिलाओं को नौकरी में आरक्षण देने की घोषणा पर पलटवार किया. अखिलेश ने कहा कि सबसे पहले समाजवादी पार्टी महिलाओं के मान और सम्मान के लिए काम किया. हमने 500 रुपए वृद्धावस्था पेंशन दी और आगे सरकार बनने पर बजट के अनुसार इसे दोगुना या तीन गुना किया जाएगा.

PM मोदी के बयान पर अखिलेश का प्रहार

पीएम मोदी के हाथ शनिवार को सरयू परियोजना का लोकार्पण करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी ने अपने शासनकाल में इस परियोजना को पूरा करने के लिए काफी काम किया. भाजपा तो सिर्फ फीता काटना जानती है. किसान की आय दोगुनी नहीं हुई और वह आज खाद के लिए लंबी-लंबी लाइनों में लगा है. अभी उन्होंने गरीबों को मार्च तक मुफ्त राशन देने की घोषणा की है, लेकिन अगर समाजवादी सरकार आई तो हम गरीबों को समाजवादी फूड पैकेट देने की योजना लागू करेंगे. प्रदेश वासियों ने मन बना लिया है उन्हें अब योगी सरकार नहीं योग्य सरकार चाहिए.

नाम बदलने में नहीं सिर्फ विकास में विश्वास

समाजवादी पार्टी ने युवाओं को लैपटॉप दिए और भाजपा ने उन पर लाठीचार्ज किया. सपा ने गरीबों को लोहिया आवास दिया और भाजपा ने तो लखीमपुर खीरी में किसानों को खदेड़कर मार डाला. समाजवादी पार्टी विकास में विश्वास रखती है जबकि नाम बदलने में विश्वास रखती है.

 

यह भी पढ़ें- ताजनगरी में कड़ी सुरक्षा के बीच CM योगी की फ्लीट को ‘सांड’ ने दी सलामी, तस्वीरें देख आप भी चौक जाएंगे

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles