प्रदेश में योगी सरकार की नाकामी को लेकर अखिलेश ने सरकार को घेरा

रोजगार को लेकर अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश में रोजगार जगह-जगह बिखरा हुआ है। रेत से तेल निकालने की कहावत पूरी तरह चरितार्थ हो रही है।

लखनऊ: जैसे जैसे 2022 विधानसभा चुनाव करीब आ रहे हैं। वैसे वैसे सभी विपक्षी पार्टियां अलर्ट हो गई हैं। मौजूदा सरकार की नाकामी को लेकर लगातार उसको निशाना बना रही है। ऐसे में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर हमला बोला है। अखिलेश यादव ने कहा कि यूपी में चार साल का कार्यकाल पूरा होने के बावजूद BJP सरकार कोई अपेक्षित परिणाम नहीं दे सकी है। फिर भी अपनी खोखली उपलब्धियों का ढिंढोरा पीट रही है। ढिंढोरची सरकार इसे ही कहते हैं।

अखिलेश ने योगी सरकार पर बोला हमला

रोजगार को लेकर अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश में रोजगार जगह-जगह बिखरा हुआ है। रेत से तेल निकालने की कहावत पूरी तरह चरितार्थ हो रही है। जब लाकडाउन के हालात थे, रोजगार बंदिशों का शिकार था, फैक्ट्रियों में छंटनी हो रही थी और लोग अपनी जान बचाने को सिर पर गठरी लादे, मासूम बच्चों और गर्भवती महिलाओं के साथ पैदल रिक्शा, ठेलिया, साइकिल या किसी भी साधन से लोग पलायन कर रहे थे। तब भी आपदा में अवसर का खूब बहाना चला। अभी हालात पूरी तरह ठीक नहीं हुए हैं। तब भी 1.9 करोड़ रोजगार के सृजन के हवाहवाई दावे किए जा रहे हैं। लोकतंत्र में निर्लज्जता की यह पराकाष्ठा है।

उन्होंने कहा कि सरकार के आंकड़ों पर ही विश्वास किया जाए तो शैक्षिक संस्थाओं, मेडिकल संस्थानों और सरकारी विभागों में लाखों पद रिक्त हैं। नौकरियों में भर्ती पर विवाद थमते नहीं। परीक्षाएं शुरू होने से पहले पेपर लीक हो जाते है और परीक्षाओं के बाद आदालतों में मामले चले जाते हैं। गरीबों, किसानों के बेटे भुखमरी के शिकार हो रहे हैं। पढ़े लिखे नौजवानों के लिए नो वैकेंसी के सूचना पट्ट लग जाते हैं।

‘नौजवानों सरकार ठग रही है’

भाजपा सरकार जनता को और खासकर नौजवानों को ठगने के लिए बड़े-बड़े विज्ञापनों पर सत्ता का धन खर्च कर अपनी नाकामयाबियां छुपाने का काम कर रही है। कौन सी फैक्ट्री या उद्योग लगाया, कहां विकास हुआ। जिससे रोजगार मिलने लगा है। सरकारी तौर पर निवेशकों के लिए सहूलियतों का पिटारा खोल दिया गया है लेकिन यह पिटारा खाली का खाली ही दिखता है। निवेशक सम्मेलनों पर खूब खर्च हुआ, अतिथि सत्कार भव्य ढंग से हुआ लेकिन जो एमओयू हुए उनको धरती पर उतरते लोगों ने नहीं देखा। उत्तर प्रदेश में फिल्मसिटी भी स्वयं मनोरंजन की वस्तु बन गई है।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार की कलाकारी का परिणाम राज्य की जनता भुगत रही है। मगर उसके सब्र का बांध टूट रहा है। जनता को सिर्फ सन् 2022 का इंतजार है जब वह भाजपा नेताओं से उनके वादों का हिसाब लेगी। नौजवान तब अपने गुस्से का इज़हार साइकिल वाला बटन दबाकर करेंगे।

यह भी पढ़ें: यूपी सरकार ने जारी की अनलॉक व्यवस्था की गाइडलाइन, कोरोना के खिलाफ सतर्क रहें लोग

Related Articles