दोबारा सपा सुप्रीमों बने अखिलेश यादव, मुलायम-शिवपाल नहीं हुए शामिल

0

आगरा। प्रेम की नगरी आगरा में आज समजवादी पार्टी का 10वां राष्ट्रीय अधिवेशन शुरू हो चुका है। इस अधिवेशन में अखिलेश यादव को दोबारा निर्विरोध समाजवादी पार्टी का अध्यक्ष चुना गया। वह लगातार दूसरी बार दल के अध्यक्ष चुने गए हैं।

अखिलेश यादव के अध्यक्ष चुने जाने की घोषण निर्वाचन अधिकारी एवं सपा के वरिष्ठ नेता रामगोपाल यादव ने की। सबसे बड़ी बात ये रही कि इस घोषणा के दौरान न तो सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव मौजूद रहे और न ही और उनके छोटे भाई शिवपाल यादव मौजूद थे।

आपको बता दें कि इससे पहले एक जनवरी को अखिलेश यादव ने जनेश्वर मिश्र पार्क में अधिवेशन बुलाकर खुद को सपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित कर दिया था। साथ ही मुलायम सिंह यादव को पार्टी का संरक्षक बना दिया था। अखिलेश का कार्यकाल पांच वर्ष का होगा। उनके दोबारा अध्यक्ष बनने के साथ ही यह तय हो गया है कि वर्ष 2019 का लोकसभा चुनाव और 2022 का उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव उन्हीं के नेतृत्व में लड़ा जाएगा।

लेकिन इस दौरान मुलायम सिंह यादव और शिवपाल यादव का मौजूद न रहना साबित करता है कि एक बार फिर सुलह की कोशिश नाकाम रही है। गौरतलब है कि सपा के 10वें राष्ट्रीय अधिवेशन से पहले गुरुवार को पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हुई जिसमें अध्यक्ष के कार्यकाल की अवधि मौजूदा तीन वर्ष से बढ़ाकर पांच साल कर दिया गया।

इस बैठक में लगभग तय हो गया था कि अखिलेश दोबारा अध्यक्ष बनेगे। आज का ऐलान तो बस एक औपरिकता मात्र है। इस अधिवेशन में 25 राज्यों के लगभग 15 हजार प्रतिनिधि भाग ले रहें हैं। 

 

 

loading...
शेयर करें