अखिलेश यादव बोले, किसानों की आवाज़ को नहीं दबा सकती सरकार

अखिलेश यादव के आवास से लेकर पार्टी कार्यालय तक बल्लियों से बैरीकैडिंग की गई है।

लखनऊ: किसान आंदोलन के समर्थन में कन्नौज में प्रस्तावित किसान मार्च में शामिल होने से रोके जाने से खफा होकर धरने पर बैठे समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आरोप लगाया कि कृषि कानून का विरोध कर रहे किसानो की आवाज को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार दबा नहीं सकती और उनकी पार्टी काले कानून की वापसी की मांग कर रहे अन्नदाताओं के समर्थन में डटी रहेगी।

दरअसल, सपा अध्यक्ष ने रविवार को घोषणा की थी कि उनकी पार्टी कृषि कानून को वापस लेने के किसान संगठनो की मांग का समर्थन करती है और इसके लिये सोमवार से राज्य भर में किसान यात्रायें आयोजित की जायेंगी। उन्होने खुद सोमवार को कन्नौज में आयोजित किसान यात्रा में भाग लेने का एलान किया था। सपा अध्यक्ष की घोषणा के बाद सतर्क जिला प्रशासन ने कोविड प्रोटोकाल का हवाला देते हुये सपा कार्यालय और पूर्व मुख्यमंत्री के आवास के बाहर बेरीकेडिंग लगाकर पुलिस बल तैनात कर दिया था।

दिन बढ़ने के साथ सपा कार्यकर्ताओं और नेताओं का जमावड़ा सड़कों पर बढ़ने लगा। कुछ नेताओं ने सपा प्रमुख के आवास में जाने का प्रयास किया जिन्हे पुलिस ने रोक दिया। उधर सपा अध्यक्ष की गाड़ी और सुरक्षाकर्मियों को भी आवास में जाने से रोक दिया गया।

सपा अध्यक्ष सड़क पर

इसके बाद सपा अध्यक्ष सड़क पर आ गये और बंदरियाबाग में सड़क पर धरने पर बैठ गये। उन्होने कहा कि पुलिस चाहे तो उन्हे गिरफ्तार कर सकती है। अखिलेश ने आरोप लगाया कि सरकार किसानो की आवाज को दबाना चाहती है। भाजपा जुलूस निकाले तो कोविड प्रोटोकाल का उल्लघंन नहीं होता है और अगर किसान आंदोलन करता है तो तमाम नियमो का हवाला दिया जाता है।

उन्होने कहा कि उनके कई कार्यकर्ताओं और नेताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया है लेकिन उनकी पार्टी किसानो की जमीन और फसल को लीलने वाले काले कानून की वापसी तक किसानों के साथ संघर्ष करती रहेगी। चाहे इसके लिये उन्हे कोई भी कुर्बानी क्यों न देनी पड़े।

इस बीच लखनऊ और कन्नौज के अलावा राज्य के कुछ अन्य इलाकों में सपा कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच झड़पों की सूचना है। लखनऊ में अलग अलग इलाकों में सपा कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने हल्का बल प्रयोग किया और उन्हे हिरासत में लिया गया।

अखिलेश के आवास से कार्यालय तक

जिला प्रशासन की दलील है कि कोविड प्रोटोकाल के उल्लघंन की आशंका से किसान मार्च को इजाजत नहीं दी जा सकती। अखिलेश यादव के आवास से लेकर पार्टी कार्यालय तक के बल्लियों से बैरीकैडिंग की गई है। पुलिस ने सपा अध्यक्ष के वाहन और सुरक्षा कर्मियों को बैरीकैडिंग के बाहर ही रोक दिया है।

सपा के दो एमएलसी उदय वीर सिंह और राजपाल कश्यप ने श्री यादव के आवास पर जाने की कोशिश की लेकिन पुलिस ने उन्हे रोक दिया। सपा नेताओं का आरोप है कि उन्होने पुलिस अधिकारियों को बाकायदा अपने परिचय पत्र दिखाये लेकिन इसके बावजूद उन्हे अपने ही नेता से मिलने की अनुमति नहीं दी गयी जो लोकतंत्र के अपमान की पराकाष्ठा है।

उधर सपा विधान पार्षद सुनील सिंह साजन ने एक वीडियो संदेश जारी कर कहा कि राज्य की योगी सरकार किसानो के आंदोलन को कुचलना चाहती है जबकि सपा अध्यक्ष का साफ संदेश है कि उनके कार्यकर्ता किसानो की जमीन के हक की लड़ाई लड़ते रहेंगे चाहे इसके लिये उन्हे अपनी जान ही क्यों न कुर्बान करनी पड़े। सरकार ने पूर्व मुख्यमंत्री को घर पर नजरबंद कर दिया और उनके आवास को छावनी में तब्दील कर दिया लेकिन इससे सपा के इरादों पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा और उनकी पार्टी मुश्किल वक्त में किसानो के साथ खड़ी रहेगी।

यह भी पढ़े: नई बीमारी ने आंध्र प्रदेश में मचाई दहशत, एक की मौत, करीब 290 लोग बीमार

Related Articles

Back to top button