आजम खान से मिलने रामपुर नहीं जाएंगे अखिलेश यादव, रद्द किया दौरा

0

रामपुर: अखिलेश यादव ने अपना रामपुर का कार्यक्रम रद्द कर दिया है. मुहर्रम के मद्देनजर जनपद में धारा 144 लागू है. ऐसे में जिला प्रशासन ने अखिलेश से रिक्वेस्ट किया था कि कानून व्यवस्था खराब हो सकती है. जिसके बाद अखिलेश ने अपना दौरा रद्द कर दिया है. मोहर्रम पर कानून व्यवस्था न बिगड़े इसलिए रद्द किया दौरा. रामपुर आने का कार्यक्रम कुछ दिन बाद बन सकता है.

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के ऐलान के बाद अब खुद समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव रामपुर से सपा सांसद आजम खान के समर्थन में सड़क पर उतर रहे हैं. सोमवार को अखिलेश यादव आजम खान और उनके परिवार से मिलने और अपना समर्थन जताने के लिए रामपुर पहुंचने वाले थे, लेकिन ऐन वक्त पर उन्होंने अपना दौरा रद्द कर दिया है.

अपने दो दिवसीय दौरे में अखिलेश यादव आजम खान के परिवार से मिलने वाले थे। साथ ही, उनके व उनके परिवार के खिलाफ दर्ज हुए मुकदमों और चल रही कार्रवाई के सिलसिले में भी बात करने वाले थे. हालांकि, मोहर्रम के चलते शहर में लागू धारा 144 की वजह से दौरे को फिलहाल के लिए टालना पड़ गया है.

आजम खान पर अब तक 80 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं

आजम खान पर अब तक 80 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं. आजम खान पर जौहर यूनिवर्सिटी के लिए किसानों की जमीने कब्जाने, डराने धमकाने, झूठे मुकदमों में जेल भिजवाने, मकान तुड़वाने, सरकारी और गैर सरकारी इमारतें कब्जाने, वक्फ संपत्तियों पर कब्जा करने, लूट, चोरी, डकैती, गैर इरादतन हत्या , भड़काऊ भाषण देने और उन्माद फैलाने जैसे आरोपों में केस दर्ज हो चुके हैं. आजम खान पर किताब चोरी, मिट्टी के शेरों की मूर्तियां चुराने और भैंस चोरी जैसे आरोप भी लगे हैं. आजम खान के बेटे और पत्नी पर भी कई मुकदमे दर्ज हैं. इतना ही नहीं, आजम खान भू-माफिया भी घोषित हो चुके हैं.

कांग्रेस और BJP नेता अखिलेश यादव के रामपुर आने का कर रहे हैं विरोध

इस बीच आजम खान के समर्थन में अखिलेश यादव के रामपुर आने पर कांग्रेस नेता फैसल खान लाला ने कड़ी नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि अखिलेश यादव यहां दंगा कराने आ रहे हैं. फैसल खान लाला ने उत्तर प्रदेश कि राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को चिट्ठी लिखकर अखिलेश यादव के रामपुर दौरे पर रोक लगाने की मांग की है. उधर, बीजेपी नेता मुस्तफा हुसैन ने भी अखिलेश यादव के रामपुर आने पर नाराजगी जाहिर करते हुए यूपी एसआईटी को पत्र लिखकर मांग कि है कि आजम खान का समर्थन करने वाले पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से भी पूछताछ होनी चाहिए, क्योंकि उनके मुख्यमंत्री रहते हुए आजम खान को किस आधार पर सरकारी शोध संस्थान और मदरसा आलिया की इमारतें दे दी गईं.

रामपुर शहर विधान सभा सीट पर होना है उपचुनाव

आजम खान के लोकसभा चुनाव जीतने से रामपुर शहर की विधानसभा सीट खाली हो चुकी है और अब यहां उपचुनाव होने हैं. ऐसे में यहां अखिलेश यादव उपचुनाव के लिए संभावित प्रत्याशी के नाम पर भी चर्चा कर सकते हैं. वैसे रामपुर के सियासी गलियारों में चर्चा ये भी है कि अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव को भी आजम खान अपनी रामपुर सीट से उपचुनाव लड़ाकर विधानसभा भेज सकते हैं. वहीं, दूसरी तरफ अगर बीजेपी से जयाप्रदा चुनावी मैदान में आती हैं, तो एक बार फिर रामपुर में चुनावी माहौल दिलचस्प हो सकता है.

जिला प्रशासन हुआ अलर्ट

पूर्व मुख्यमंत्री और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के कार्यक्रम को लेकर रामपुर जिला प्रशासन भी अलर्ट हो गया है. जिला अधिकारी आंजनेय कुमार सिंह का कहना है कि पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के रामपुर आने पर कोई रोक नहीं है. वो शांतिपूर्वक तरीके से जहां जाना चाहे जा सकते हैं, लेकिन त्योहारों के मद्देनजर जनपद में धारा 144 लागू है. ऐसे में किसी को भी सार्वजानिक स्थान पर भीड़ इकट्टा करने या जनसभा या रोड शो करने की कोई इजाजत नहीं दी जा सकती है. अगर कोई कानून व्यवस्था बिगाड़ता है, तो फिर उस से सख्ती से निपटा जाएगा. कानून व्यवस्था बनाए रखने में पुलिस प्रशासन का सहयोग क

loading...
शेयर करें