CAA को लेकर दर्ज हुए मुकदमों पर अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) का बड़ा बयान

लखनऊ: समाजवादी पार्टी नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) के विरोध में हुई तोड़फोड़ और आगजनी की घटना को लेकर दर्ज मुकदमें को अगले विधानसभा चुनाव में पार्टी की सरकार बनने पर इसे वापस ले लेगी।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने आज ऐलान किया कि उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में 2022 में पार्टी की सरकार बनने पर नागरिकता संशोधन कानून व एनआरसी (NRC) के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों पर दर्ज किए गए मुकदमें वापस लिए जाएंगे। इसके साथ ही उन्होंने विधानसभा चुनाव छोटे दलों को साथ मिल कर लड़ने के संकेत दिए। उन्होंने कहा कि छोटे दलों के लिए सपा ने अपने दरवाजे हमेशा खुले रखे हैं। उन्होंने दावा किया कि अगले विधानसभा चुनाव के बाद सपा की ही सरकार बनेगी।

सपा में शामिल हुईं सुमैया

शायर मुनव्वर राना की बेटी सुमैया आज समाजवादी पार्टी में शामिल हो गईं। लखनऊ के घंटाघर पर सीएए और एनआरसी के विरोध में महीनों चले प्रदर्शन में सुमैया राणा ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया था। उन पर मुकदमा भी दर्ज हुआ है। समाजवादी पार्टी में आज गोंडा से बसपा के लोकसभा प्रत्याशी रहे मसूद आलम खां, बसपा के लाल चंद्र गौतम व खुदी राम पासवान सहित कई नेता भी शामिल हुये।

अखिलेश यादव ने कहा कि तमाम दलों के लोग सपा में शामिल हो रहे हैं और बहुत से लोग शामिल होना चाहते है। कई छोटे दल भी हमसे जुड़ना चाहते हैं इसलिए पार्टी 2022 में होने वाले चुनाव के बाद छोटे दलों के साथ मिलकर सरकार बनायेगी ।
विनोद

‘विरोध में उठने वाली आवाज दबा रही है सरकार’

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार विरोध में उठने वाली हर आवाज को दबाने के लिए विरोधियों पर झूठे मुकदमे लगा रही है। यह सरकार जब तक नहीं जाएगी तब तक लोकतंत्र नहीं बच सकता। उन्होंने कहा कि नया कृषि कानून किसानों के लिए डेथ वारंट है। किसान आंदोलन में सपा ने लगातार सक्रिय भूमिका निभाई है। देश में किसी भी पार्टी के कार्यकर्ताओं पर इतने मुकदमे नहीं दर्ज हुए जितने सपा नेताओं पर आंदोलन के दौरान लगे। हम किसानों के लिए एक्सप्रेस वे के किनारे जो मंडियां बना रहे थे वो इस सरकार ने बंद करवा दी।

उन्होंने मांग की है कि किसानों को दोगुनी आय के बराबर न्यूनतम समर्थन मूल्य दिया जाए। अखिलेश यादव की मौजूदगी में बसपा नेताओं के साथ ही उनके करीब 200 समर्थक भी सपा में शामिल हो गए।

यह भी पढ़ें: बंगाल ही नहीं, तमिलनाडु भी भाजपा के लिए चिंता का सबब

Related Articles

Back to top button