पुलिस के एनकाउंटर में मरा बच्चा, अखिलेश ने योगी से कहा-50 लाख मुआवजा दे सरकार

0

लखनऊ। यूपी के मथुरा में पुलिस और बदमाशों के बीच हुए मुठभेड़ में 8 साल के बच्चे की मौत हो गई। पुलिस और बदमाशों के बीच हो रही फायरिंग में एक बच्चे के सिर में गोली जा लगी जिससे उस बच्चे की मौके पर ही मौत हो गयी। अब इस मामले में राजनीति शुरू हो गयी है।

घटना से दुखी सीएम योगी आदित्यनाथ ने मृतक बच्चे के परिजनों को पांच लाख रुपये देने का ऐलान किया है। वहीं सपा मुखिया अखिलेश यादव ने 50 लाख रुपए के मुआवजे की मांग रखी है। साथ ही उन्होंने ट्वीट करमथुरा की घटना को हृदयघाती बताते हुए दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। साथ ही उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार से 50 लाख रुपए के मुआवजे की मांग रखी है।

इस मामले दुःख व्यक्त करते हुए सिद्धार्थनाथ सिंह घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने कहा कि इस मामले में सीधे किसी पर आरोप नहीं लगाया जा सकता। ये गंभीर विषय है। जांच रिपोर्ट के आधार पर ही कार्रवाई होगी। यूपी के मथुरा में एक दर्दनाक हादसा हुआ है। यहां मोहनपुर अडूकी इलाके में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ के दौरान गोली लगने से एक आठ साल के मासूम की मौत हो गयी।

वहीँ हीं मृतक के परिजनों का आरोप है कि बच्चे की मौत पुलिस की गोली से हुई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बच्चे की मौत पर दुख जताते हुए परिवार के लिए 5 लाख रुपये के मुआवज़े का एलान किया है। उल्लेखनीय है की योगी सरकार में प्रदेश को अपराध मुक्त बनाने के लिए अपराधियों के लिए एनकाउंटर अभियान चला रखा है।

लेकिन अब यही अभियान विवाद में घिरा हुआ है। मिली जानकारी के मुताबिक, क्षेत्र के गांव मोहनपुर अड़ूकी में बुधवार शाम करीब छह बजे दबिश के दौरान पुलिस और बदमाशों के बीच हुई फायरिंग में एक बच्चे की सिर में गोली लगने से मौत हो गई।

वहीँ परिजनों का आरोप है कि तैनात हाईवे थाने के दो पुलिसकर्मी दोपहर करीब ढाई बजे गांव मोहनपुर पहुंचे। गांव से बाहर खेत पर मकान बनाकर रह रहे पीडि़त अमरनाथ के मकान के पास मोटरसाइकिल खड़ी करके बाहर ही बैठ गए। दोनों घंटों वहीँ बैठे रहे तब वहां मौजूद लोगों ने उनसे वहां बैठने की वजह पूछी तो उन्होंने उन्हें चुप रहने को कहा।

कुछ लोगों का आरोप है कि दोनों सिपाही बैठ कर शराब पी रहें हैं। दोनों के बीच किसी बात को लेकर झगड़ा शुरू हो गया। इसके बाद ही फयरिंग की आवाज आईं, जिसमें माधव को गोली लगी। गोली की आवाज सुनकर लोग जैसे आये तो उन्होंने माधव को खून से लथपथ देखा और पुलिस वाले बदमाश बदमाश चिल्ला रहे थे। परिजनों का आरोप है कि ग्रामीणों को देखते ही पुलिस वाले भाग खड़े हुए ।

मृतक के परिजनो मे अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या की तहरीर थाना हाईवे मे दी है। डीएम सर्वज्ञ राम मिश्रा और एसएसपी स्वप्निल ममगई ने बताया कि पूरे मामले की जांच क्षेत्राधिकारी से कराई जायेगी। जो भी दोषी होंगे उनके खिलाफ कडी कार्यवाही की जायेगी।

loading...
शेयर करें