अलंकित ने लांच किया नया एप ई-राही, मिलेगी काफी सहूलियत

नई दिल्ली। टेक्नोलॉजी युग कहा जानें वाला यह समय अब मोबाइल एप्लीकेशन और सॉफ्टेयर में सिमटता जा रहा है। आज हर कंपनी अपने साथ एप का प्रयोग कर रही है। यहां तक की आज कल तो सरकार भी अपनी सेवाए एप्लीकेशन के माध्यम से दे रही है। इसी क्रम में एसटी सुविधा प्रदाता (जीएसपी) अलंकित लिमिटेड ने ई-राही की शुरूआत की है।

कंपनी ने कहा है कि यह एक बटन पर क्लिक से ई-वे बिल्स निकालने के लिए एक आसान और लागत प्रभावी मोबाइल एप्लिकेशन और डेस्कटॉप सॉफ्टवेयर है। अलंकित ई-राही एप्लिकेशन पहले 1000 बिल 1000 रुयपे की प्रतिस्पर्धी कीमत पर जेनरेट करने की पेशकश करता है। एक बयान में कहा गया है कि यह एप्लिकेशन गूगल प्लेस्टोर पर उपलब्ध है और यह एन्ड्रॉइड पर इस्तेमल हो सकती है।

इसकी विशेषताओं के तौर पर, ई-राही यूजर से आप ई-वे बिल्स जेनरेट, उन्हें एडिट और एसएमएस, व्हॉट्सऐप और ई-मेल के जरिए शेयर कर सकते हैं। अगर यूजर को बिल की हार्ड कॉपी चाहिए तो बिल का फॉर्मेट ऐसा होता है कि उसका प्रिंट आउट निकाला जा सकता है। बयान के मुताबिक, ई-राही अलंकित जल्द ही जीएसटी मुनीम जी (क्लाउड आधारित अनुपालन सॉफ्टवेयर) के साथ एकीकृत होगा, इससे ट्रान्जेक्शन का विवरण अपलोड करने की जरूरत नहीं रहेगी। वर्तमान में, पहले 1000 बिलों की शुरुआती कीमत 1000 रुपये है। अलंकित 1000 से ज्यादा बिल जेनरेट करने के लिए प्रतिस्पर्धी कीमत वाले पैकेज की पेशकश कर रहा है।

 

Related Articles