एलर्ट : कई और ग्लेशियर्स के टूटने का खतरा !

utt-glacier-3

पिथौरागढ़ (मुनस्यारी)। ग्लोबल वार्मिंग का खतरा उत्तराखंड में साफ दिखायी देने लगा है। मौसम में लगातार हो रहे बदलाव, कम बर्फबारी और पंचाचूली ग्लेशियर के फटने के बाद पहाड़ के दूसरे ग्लेशियर्स के फटने का खतरा मंडरा रहा है। वैज्ञानिकों ने आशंका जताई है कि किसी भी समय उत्तराखंड के दूसरे ग्लेशियर्स भी फट सकते हैं और ये पहाड़ से लेकर मैदान तक तबाही का मंजर पेश कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें – जानिये देश में कौन सा ग्लेशियर सबसे तेजी से पिघल रहा है

utt-glacier-4

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में पंचाचूली ग्लेशियर फटने की घटना के बाद प्रशासन ने राजस्व पुलिस को अलर्ट रहने के आदेश दे दिए हैं। एसडीएम कौस्तुभ मिश्रा ने राजस्व पुलिसकर्मियों से कहा कि वह लोगों के बराबर संपर्क में रहें और नदी किनारे रहने वाले लोगों को अलर्ट पर रखें। उन्होंने कहा कि बलाती में मंदाकिनी में गिरा हिमखंड धीरे-धीरे पिघल रहा है। अगर तापमान बढ़ने पर वह तेजी से पिघला तो नदी का जलस्तर बढ़ सकता है। इस बीच एसडीएम के निर्देश पर आपदा प्रबंधन की टीम भी क्षेत्र में निगरानी रख रही है।

ये भी पढ़ें – मंदाकिनी में 22652 फिट की ऊंचाई से गिरा ग्लेशियर, फिर क्या हुआ जानिये…

utt-glacier-1

टूट सकती है बर्फीले पहाड़ों की कमजोर परत

एसडीएम ने बताया कि इस बार मौसम में काफी अंतर आया है। अब तक हिमालय की चोटियों पर जमकर हिमपात नहीं हुआ है। इस कारण बर्फीले पहाड़ों की कमजोर परत के खिसकने का खतरा बना रहेगा। और हो सकता है कि ग्लेशियर्स भी इससे अछूते न रहें।

ये भी पढ़ें – Warning : उत्‍तर भारत में आने वाला है बड़ा भूकंप

utt-glacier-5

उन्होंने कहा कि मौसम की प्रतिकूल स्थितियों को देखते हुए बेहद संवेदनशील होकर काम करना होगा, अगर कहीं पर भी मौसम संबंधी कोई बदलाव सामने आता है तो तुरंत तहसील मुख्यालय को उसके बारे में सूचित करें। फिलहाल पंचाचूली में टूटे ग्लेशियर से कोई खतरा नहीं है, लेकिन बराबर नजर रखी जा रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button