UP Election 2022 में साढ़े छह करोड़ युवा वोटरों पर सभी दलों का फोकस, किए ये बड़े-बड़े वादें

UP में सत्ता पर काबिज होने के लिए सभी राजनीतिक दल अपने-अपने वादों का पिटारा खोल रहे है. इसी क्रम में बीजेपी, सपा, कांग्रेस और बसपा ने बड़ा दांव खेला है.

UP में विधानसभा चुनाव का माहौल पूरी तरह से तैयार हो चुका है और विधानसभा चुनाव को लेकर सभी दल बड़े-बड़े वादें और दावें कर रही है. इतना ही नहीं सत्ता पर काबिज होने के लिए सभी सियासी दल अपने वादों का पिटारा खोल रहे हैं. वहीं सभी राजनैतिक दलों की नजर राज्य के साढ़े छह करोड़ वोटों पर टिकी हैं. लिहाजा सभी सियासी दल, इन वोटरों को लुभाने के लिए तरह तरह के वादे कर रहे हैं. राज्य में जहां सत्ताधारी बीजेपी टैबलेट और लैपटॉप देने की तैयारी में है तो समाजवादी पार्टी भी चुनाव के बाद बनने अपनी सरकार में युवाओं को कई तरह के तोहफे देने का वादा कर रही जबकि कांग्रेस युवा महिलाओं को लुभाने के लिए स्कूटी और स्मार्टफोन देने ऐलान कर चुकी है. आकंड़ों के मुताबिक राज्य में युवा राज्य के कुल मतदाताओं का लगभग 45 फीसदी है और ये मतदाता 18 से 40 वर्ष आयु वर्ग के हैं. बीजेपी हो या फिर एसपी या फिर कांग्रेस , सभी दल इन युवाओं को लुभाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं और तरह तरह के वादे कर रहे हैं. असल में 2014 के लोकसभा चुनाव में केंद्र की सत्ता में नरेंद्र मोदी को स्थापित करने में युवाओं का बड़ा योगदान रहा. लिहाजा राजनैतिक दल इन वर्ग को अपनी और आकर्षित करने के लिए सियासी वायदे कर रहे हैं.

अखिलेश की ताजपोशी में युवाओं की थी बड़ी भागीदारी

अगर बात राज्य में पिछले चुनावों की बात करें तो 2012 में यूपी में अखिलेश यादव की ताजपोशी में युवाओं की बड़ी भागीदारी रही. जबकि 2017 के विधानसभा चुनाव में युवाओं ने बीजेपी को वोट दिया और राज्य में उसकी सरकार बनाई. जबकि 2019 के लोकसभा चुनाव में युवाओं ने बीजेपी की नीतियों से प्रेरित होकर उसके पक्ष में मतदान किया. अगर देखें तो देश के साथ ही राज्य सरकार भी युवाओं पर फोकस कर रही है. ताकि राज्य की सत्ता पर फिर से काबिज हुआ जा सके. लिहाजा सरकार तरह तरह की घोषणाएं युवाओं के लिए कर रही है. जानकारी के मुताबिक राज्य में 14.40 करोड़ से अधिक कुल मतदाता हैं और इसके 45 फीसदी युवा वोटर हैं.

बीजेपी-कांग्रेस ने भी युवाओं पर डाले डोरे

अगर बात राज्य की सत्ताधारी बीजेपी की करें तो राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन से युवाओं को स्मार्टफोन और टैबलेट वितरित करने जा रही है. इसे बीजेपी की युवा वोटर को लुभाने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है. वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने 20 लाख नौकरियां देने का वादा कर चुकी हैं और उन्होंने राज्य में सरकार बनने के बाद इंटर पास लड़कियों के लिए स्मार्टफोन और स्नातकों के लिए स्कूटी देने का वादा किया है. वहीं एसपी मुखिया अखिलेश यादव अपने चुनाव प्रचार को युवाओं पर फोकस कर रहे हैं और उनकी रैलियों में युवा वर्ग की भीड़ देखी जा रही है. वहीं बीएसपी भी इस मामले में पीछे नहीं हैं और वह यूपी से पलायन रोकने के लिए सत्ता में वापसी पर युवाओं को नौकरी देने का वादा कर रही है.

यह भी पढ़ें- बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के तहत बच्चियों को नहीं मिली सही शिक्षा, आंकड़ों ने बयां की हकीकत

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles