टीकाकरण (Vaccination) अभियान की सभी तैयारियां पूरी

नई दिल्ली: देश में कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए शनिवार से शुरू किए जाने वाले टीकाकरण (Vaccination)  अभियान की सभी तैयारियां पूरी कर ली गयीं हैं।

टीकाकरण (Vaccination) के अभियान को लेकर शुक्रवार को इससे सम्बंधित विशेषज्ञों और देश के औषधि नियंत्रकों की बैठकें हुईं। इस बैठक में टीकाकरण अभियान की सभी तैयारियों और टीका को लेकर अंतिम निर्णय किए गए।

दिल्ली और उत्तर प्रदेश में सभी तैयारी पूरी

राज्यों में टीकाकरण अभियान के लिए व्यापक तैयारी की गयी है। राजधानी दिल्ली और उत्तर प्रदेश में इसके लिए सभी तरह की तैयारी पूरी कर ली गयी है। दिल्ली में टीकाकरण अभियान को लेकर स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की ।

आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) और इस अभियान से जुड़े अन्य विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ सम्पन्न हुई इस बैठक में डॉ हर्षवर्धन ने टीकाकरण अभियान की तैयारियों का जायजा लिया।

सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश जारी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री (Central Minister) ने बैठक में मौजूद अधिकारियों से कहा कि शहरों में वैक्सीन के पहुंचने, अस्पताल तक जाने, फिर डोज देने की पूरी प्रक्रिया का पालन किया जायेगा, यह एक अभ्यास की तरह है। डॉक्टर हर्षवर्धन (Doctor Harsh Vardhan) के अनुसार राज्य सरकारों, जिला अधिकारियों और प्रखंड स्तर पर इस संबंध में निर्देश दिए जा चुके हैं।

उन्होंने आग्रह किया कि अभियान से जुड़े सभी अधिकारी सुनिश्चित करें कि टीकाकरण से जुड़े स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी दिशा निर्देशों का पालन किया जाए।

डॉ. हर्षवर्धन ने स्वास्थ्य और प्रशासनिक कर्मियों के बीच तालमेल पर ज़ोर देने की बात कही ताकि बाद में बड़े स्तर पर टीकाकरण अभियान को सफल बनाया जा सके।

उन्होंने 1994 के पल्स पोलिओ अभियान का उदाहरण देते हुए कहा कि इतने बड़े स्तर पर होने वाले टीकाकरण अभियान की सफलता के लिए सभी स्वयंसेवी संस्थाओं , सामाजिक संगठनो और ग़ैर सरकारी संस्थाओं की भागीदारी ज़रूरी है। उन्होंने अधिकारियों से ग्राउंड स्टाफ, लॉजिस्टिक्स और कोल्ड स्टोरेज को दुरुस्त करने के लिए कहा।

विशेषज्ञों की टीम लगातार कर रही निगरानी

डॉ. हर्षवर्धन ने वैक्सीन की मंज़ूरी की स्थिति पर जानकारी देते हुए कहा कि फ़िलहाल दो प्रमुख वैक्सीन के आंकड़ों पर विशेषज्ञ समिति निगरानी कर रही है।

इस बैठक में केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण, अतिरिक्त सचिव वंदना गुरमानी और मनोहर अगनानी और संयुक्त सचिव लचक अग्रवाल समेत मंत्रालय के कई वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें: धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) ने एलपीजी उपभोक्ताओं के लिए शुरू की मिस कॉल सुविधा

Related Articles