यूपी में शराब की ऑनलाइन बिक्री पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सुनाया बड़ा फैसला

प्रयागराज: यूपी में शराब की ऑनलाइन बिक्री को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बुधवार को बड़ा फैसला सुनाया है। यूपी में शराब की ऑनलाइन बिक्री से होम डिलीवरी की अनुमति की मांग को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट में दाखिल जनहित याचिका को खारिज कर दिया है। कोर्ट का कहना है कि राज्य सरकार का नीतिगत मामला है, शराब की ऑनलाइन बिक्री की अनुमति नहीं दी जा सकती।

इलाहाबाद हाईकोर्ट में बुधवार को कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश एमएन भंडारी और न्यायमूर्ति एससी शर्मा की खंडपीठ ने सुनवाई की है। अधिवक्ता गोपाल कृष्ण पांडेय ने अपनी दायर याचिका में यह कहा था कि अगर यूपी में ऑनलाइन शराब की बिक्री होती है तो इससे राजस्व में बढ़ोतरी होगी। इसके अलावा सीनियर सिटिजन व ऐसे लोगों को सुविधा होगी जो दुकान पर जाकर शराब खरीदने में झिझकते हैं।

अनुमति देने के लिए अधिसूचना

उधर, याची का यह भी कहना था कि ऑनलाइन बिक्री से कम खर्च में दुकान चलाई जा सकेगी, इससे दुकानों पर फालतू की भीड़ भी नहीं होगी और कानून व्यवस्था में भी सुधार होगा। अधिवक्ता ने यह भी कहा था कि कुछ राज्य सरकारों ने शराब की ऑनलाइन बिक्री और होम डिलीवरी की अनुमति देने के लिए अधिसूचना जारी की है।

मुख्य स्थायी अधिवक्ता

राज्य सरकार के मुख्य स्थायी अधिवक्ता ने कहा कि सरकार ऑनलाइन बिक्री नहीं चाहती और यह सरकार का नीतिगत निर्णय है। कुछ राज्यों में कोरोना पीक पर था तो ऑनलाइन शराब बेचने की अनुमति दी गई। उत्तर प्रदेश में कोविड की दूसरी लहर भी जा चुकी है। इसलिए याचिका खारिज की जाए।

 

Related Articles