कृषि कानून को अमरिन्दर सिंह ने बताया विनाशकारी, राष्ट्रपति से मिलने का मांगा समय

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने सभी दलों के विधायकों से चार नवंबर को राष्ट्रपति से मिलने के लिये साथ चलने की अपील की है।अमरिन्दर सिंह ने कहा कि हाल में विधानसभा के विशेष सत्र में पारित कृषि संशोधन कानूनों

चंडीगढ़ : पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने सभी दलों के विधायकों से चार नवंबर को राष्ट्रपति से मिलने के लिये साथ चलने की अपील की है।अमरिन्दर सिंह ने कहा कि हाल में विधानसभा के विशेष सत्र में पारित कृषि संशोधन कानूनों पर जल्द सहमति के लिए राष्ट्रपति से मिलना जरूरी है। सरकारी प्रवक्ता ने कल यहां बताया कि मुख्यमंत्री ने एक बयान के जरिये सभी विधायकों को राज्य के हितों की रक्षा के लिए दलगत भावनाओं से उपर उठना होगा ताकि एकजुट होकर केंद्र सरकार के इन कानूनों काे वापस लेने का दबाव बनाया जा सके।

प्रवक्ता ने कहा कि केंद्र सरकार की तरफ से हाल ही में लाए तीन खेती कानून पंजाब के किसानों के लिए विनाशकारी सिद्ध होंगे। कृषि हमारे आर्थिक ढांचे के साथ-साथ मंडी प्रणाली और न्यूनतम समर्थन मूल्य की रीड़ की हड्डी है। राज्य के हितों की हिफ़ाज़त करना सबका फर्ज है। मुख्यमंत्री पहले ही राष्ट्रपति से मिलने का समय मांग चुके हैं। मुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार की ओर से पंजाब जाने वाली माल गाडियां रोकने और ग्रामीण विकास फंड को रोकने पर गंभीर चिंता जताई है। इस फंड को रोकने से गांवो के बुनियादी ढांचे के विकास पर बुरा असर पड़ेगा । वैसे ही पंजाब की अर्थव्यवस्था को कोरोना ने चौपट कर दिया।

ये भी पढ़े : पहली सी-प्लेन सेवा का आज उद्घाटन करेंगे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

तीन कृषि कानूनों के कारण पंजाब का किसान आंदोलन कर रहा है तथा रेल रोकने के कारण यात्री तथा मालगाडियाें की आवाजाही पूरी तरह बंद होने से रेलवे तथा प्रदेश सरकार को व्यापार के क्षेत्र में भारी घाटा हो रहा है। इसका सीधा असर उद्योगों पर पड़ा है ।

Related Articles

Back to top button