प्राकृतिक सौंदर्य का खजाना है Amarkantak, यहां बहता है गरम पानी का झरना, रोग होते है दूर

मैकाल की पहाड़ियों में स्थित अमरकंटक मध्य प्रदेश के अनूपपुर जिले में स्थित पवित्र तीर्थस्थरल है, यहां का प्राकृतिक सौंदर्य सैलानियों को मंत्रमुग्धत कर देते हैं

अनूपपुर: अमरकंटक () नर्मदा नदी, सोन नदी और जोहिला नदी का उदगम स्थान है। यह हिंदुओं का पवित्र स्थल है। मैकाल की पहाड़ियों में स्थित अमरकंटक मध्‍य प्रदेश (Madhya Pradesh) के अनूपपुर जिले में स्थित पवित्र तीर्थस्‍थल है। चारों ओर से टीक और महुआ के पेड़ो से घिरे अमरकंटक से ही नर्मदा और ‘सोन नदी’ की उत्‍पत्ति होती है। नर्मदा नदी (Narmada River) यहां से पश्चिम की तरफ और सोन नदी पूर्व दिशा में बहती है।

भगवान शिव की पुत्री नर्मदा

यहां के खूबसूरत झरने, पवित्र तालाब, ऊंची पहाडि़यों और शांत वातावरण सैलानियों को मंत्रमुग्‍ध कर देते हैं। प्रकृति प्रेमी और धार्मिक प्रवृत्ति के लोगों को यह स्‍थान काफी पसंद आता है। अमरकंटक का बहुत सी परंपराओं और किवदंतियों से संबंध रहा है। कहा जाता है कि भगवान शिव की पुत्री नर्मदा जीवनदायिनी नदी रूप में यहां से बहती है। माता नर्मदा को समर्पित यहां अनेक मंदिर बने हुए हैं, जिन्‍हें दुर्गा की प्रतिमूर्ति माना जाता है। अमरकंटक बहुत से आयुर्वेदिक पौधों में लिए भी प्रसिद्ध है‍, जिन्‍हें किंवदंतियों के अनुसार जीवनदायी गुणों से भरपूर माना जाता है।

अमरकंटक में “गर्म पानी का झरना” है। ऐसा कहा जाता है कि यह झरना(Waterfall) औषधीय गुणों से संपन्‍न है और इसमें स्‍नान करने से शरीर के रोग ठीक हो जाते हैं। दूर-दूर से लोग इस झरने के पवित्र पानी में स्‍नान करने के उद्देश्‍य से आते हैं, ताकि उनके तमाम दुखों का निवारण हो।

 

दूधधारा

अमरकंटक में दूधधारा (Milk stream) नाम का यह झरना काफी लो‍कप्रिय है। ऊंचाई से गिरते इस झरने का जल दूध के समान प्रतीत होता है इसीलिए इसे ‘दूधधारा’ के नाम से जाना जाता है। यह शहडोल (Shahdol) जिले में  स्थित है।

यह भी पढ़ेहरे निशान पर बंद हुआ बाज़ार, Sensex 789 अंक चढ़ा, Nifty 14,850 के ऊपर हुआ बंद

Related Articles

Back to top button