Amarnaath Yatra 2021 Date: जून में इस दिन से शुरू होगी बाबा बर्फानी की पवित्र यात्रा

श्राइन बोर्ड के चैयरमैन और उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने बोर्ड की मीटिंग में इस साल अमरनाथ यात्रा की तिथि 28 जून से शुरू करने का फैसला लिया है

नई दिल्ली: अमरनाथ यात्रा (Amarnaath Yatra) श्राइन बोर्ड के चैयरमैन और उपराज्यपाल मनोज सिन्हा (Manoj Sinha) ने राजभवन में बोर्ड की मीटिंग में वार्षिक अमरनाथ यात्रा की तिथि घोषित की है। इस साल 28 जून से 22 अगस्त तक अमरनाथ यात्रा चलेगी।

तीर्थों का तीर्थ है यह स्थल

अमरनाथ हिन्दुओं का एक प्रमुख तीर्थस्थल है। यह कश्मीर राज्य के श्रीनगर शहर के उत्तर-पूर्व में समुद्रतल से 13,600 फुट की ऊंचाई पर स्थित है। इस गुफा की लंबाई 19 मीटर और चौड़ाई 16 मीटर है। गुफा 11 मीटर ऊंची है। अमरनाथ गुफा भगवान शिव (Lord Shiva) के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक है। अमरनाथ को तीर्थों का तीर्थ कहा जाता है क्यों कि यहीं पर भगवान शिव ने मां पार्वती को अमरत्व का रहस्य बताया था।

 

यह भी पढ़ेHoli 2021 Date: जानें कब होगा होलिका दहन? इस मुहूर्त में मनाई जाएगी होली

गुफा में बर्फ से प्राकृतिक शिवलिंग

यहां की प्रमुख विशेषता पवित्र गुफा में बर्फ से प्राकृतिक शिवलिंग (Shivling) का निर्मित होना है। प्राकृतिक हिम से निर्मित होने के कारण इसे स्वयंभू हिमानी शिवलिंग भी कहते हैं। आषाढ़ पूर्णिमा से शुरू होकर रक्षाबंधन तक पूरे सावन महीने में होने वाले पवित्र हिमलिंग दर्शन के लिए लाखों लोग यहां आते हैं। गुफा की परिधि लगभग डेढ़ सौ फुट है और इसमें ऊपर से बर्फ के पानी की बूंदें जगह-जगह टपकती रहती हैं।

यहीं पर एक ऐसी जगह है, जिसमें टपकने वाली हिम बूंदों से लगभग दस फुट लंबा शिवलिंग बनता है। चन्द्रमा के घटने-बढ़ने के साथ-साथ इस बर्फ का आकार भी घटता-बढ़ता रहता है। श्रावण पूर्णिमा को यह अपने पूरे आकार में आ जाता है और अमावस्या तक धीरे-धीरे छोटा होता जाता है। आश्चर्य की बात यही है कि यह शिवलिंग ठोस बर्फ का बना होता है, जबकि गुफा में आमतौर पर कच्ची बर्फ ही होती है जो हाथ में लेते ही भुरभुरा जाए। मूल अमरनाथ शिवलिंग से कई फुट दूर गणेश, भैरव और पार्वती के वैसे ही अलग अलग हिमखंड हैं।

यह भी पढ़ेसलमान खान (Salman Khan) ने पूरा किया वादा ‘फिल्म’ का बड़ा ऐलान, जानें कब होगी रिलीज

Related Articles