अमेरिका ने भारत और जापान को security alliance में शामिल करने से किया इनकार

वाशिंगटन : अमेरिका ने कहा है कि भारत-प्रशांत क्षेत्र में 21वीं सदी की चुनौतियों से निपटने के लिए ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन के साथ की गई नई त्रिपक्षीय पार्टनरशिप में भारत या जापान को शामिल नहीं किया जाएगा। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन, ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन और ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने 15 सितंबर को इस security alliance की घोषणा की थी।

इस security alliance के तहत पार्टनर देशों को मिलेंगी अमेरिकन टेक्नोलॉजी

इसके तहत ऑस्ट्रेलिया को पहली बार परमाणु शक्ति से लैस पनडुब्बियां मिलेंगी। व्हाइट हाउस की प्रेस सेक्रेटरी जेन साकी ने संवाददाताओं को बताया, “इस सिक्योरिटी अलायंस का उद्देश्य एक संकेत देना नहीं है। हमने फ्रांस के राष्ट्रपति को भी यह संदेश दिया है कि भारत-प्रशांत क्षेत्र में सिक्योरिटी के लिए किसी और को शामिल नहीं किया जाएगा।” भारत और जापान के शीर्ष नेता क्वाड समिट के लिए अभी अमेरिका में हैं। क्वाड में भारत के अलावा अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया शामिल हैं।

नए सिक्योरिटी अलायंस को भारत-प्रशांत क्षेत्र में चीन का मुकाबला करने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। इससे अमेरिका और ब्रिटेन को परमाणु शक्ति से लैस पनडुब्बियों की टेक्नोलॉजी ऑस्ट्रेलियो को उपलब्ध कराने में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें :न्यूजीलैंड टीम के सिक्योरिटी गार्ड्स ने उड़ाई 27 लाख की biryani

 

Related Articles