अमेरिकी चिकित्सा प्रणाली की खुली पोल, इलाज के लिए वसूल रहे महंगी फीस

अमेरिका में कोविड-19 से संक्रमित माइक को अस्पताल में भर्ती किया गया और उन्हें 11.2 लाख अमेरिकी डॉलर का बिल मिला

बीजिंग: अमेरिका (America) में कोविड-19 से संक्रमित माइक को अस्पताल में भर्ती किया गया और उन्हें 11.2 लाख अमेरिकी डॉलर (U.S. Dollar) का बिल मिला और आम अमेरिकी (American) को महंगी फीस न देने से इलाज से इंकार किया। इसके बाद अमेरिकी (American) चिकित्सा प्रणाली की सारी पोल-पट्टी खुल गई और पूर्ण रूप से पूंजी की सेवा करने और अमेरिकियों के जीवन को ताक पर रखने का सार देखा गया।

यूरोप और जापान जैसे विकसित देशों की तुलना में अमेरिका में चिकित्सा प्रणाली केवल 38 प्रतिशत आबादी तक पहुंचती है। करीब 9 प्रतिशत अमेरिकियों के पास चिकित्सा बीमा नहीं है। अमेरिका में डॉक्टर, बीमा कंपनी, फार्मास्युटिकल फैक्टरी और चिकित्सा बीमा प्रबंध संस्था आदि एक दूसरे से प्रतिस्पर्धा करती हैं और आपसी सांठ-गांठ भी करती हैं। आम अमेरिकी यहां तक राष्ट्रीय संपत्ति उनकी होड़ के शिकार हैं।

अमेरिकी राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो ने बताया अकड़ा

अमेरिकी राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो के आंकड़े बताते हैं कि 2019 में अमेरिका में चिकित्सा व्यय करीब 36 खरब यूएस डॉलर था, जो जीडीपी का लगभग 18 प्रतिशत था। लेकिन औसत अमेरिकियों की औसत जीवन प्रत्याशा एपेक संगठन के अन्य 25 सदस्य देशों से कहीं नीची रही है।

ये भी पढ़ें : नीतीश ने एनआरआई लोगों से किया आग्रह, बिहार में करें निवेश

महामारी के कारण कई हुए बेरोजगार

कम फैलाव, ऊंचा खर्च और कम गुणवत्ता अमेरिकी चिकित्सक प्रणाली की कमियां मानी जाती हैं। महामारी से अनेक अमेरिकी नौकरी से हाथ धो बैठे हैं, साथ ही चिकित्सा बीमा भी गंवा चुके हैं। मरीजों के लिए भगवान पर विश्वास करना उनका एकमात्र विकल्प है। अमेरिका में चिकित्सक प्रणाली अमेरिकी प्रतिस्पर्धा शक्ति पर असर डालने वाली कीट बन चुकी है।

ये भी पढ़ें : जी7 शिखर सम्मेलन के लिए बोरिस जॉनसन ने पीएम मोदी को किया आमंत्रित

यदि अमेरिका में धन की राजनीति नहीं बदलती है, तो आम अमेरिकियों यहां तक कि सभी अमेरिकियों के हितों को चिकित्सक प्रणाली की कीट से नुकसान पुहंचेगा। यह पूंजी की खोज करने की अमेरिकी त्रासदी है।

Related Articles