अमेरिकन यूनिवर्सिटी का दावा-विटामिन डी कोरोना से मौत का खतरा 50 फीसदी कर देती कम

अन्तर्राष्ट्रीय: दुनिया भर में कोरोना वायरस के बढ़ते कहर को देखते हुए विश्व स्वास्थ संगठन (WHO) ने दुनिया को आगाह किया है। WHO ने कहा कि अगर कोरोना वायरस की कोई कारगर दवा नहीं आती है तो इस महामारी से मरने वालों का आंकड़ा 20 लाख तक जा सकता है। बता दें कि अब तक दुनिया भर में कोरोना से करीब दस लाख लोगों की मौत हो चुकी है। वहीँ इसी बीच अमेरिका की बोस्टन यूनिवर्सिटी ने अपने रिसर्च में विटामिन डी को लेकर नया दावा किया है।

बोस्टन यूनिवर्सिटी
बोस्टन यूनिवर्सिटी

अमेरिका की बोस्टन यूनिवर्सिटी ने अपने रिसर्च में दावा किया है कि जिन लोगों के शरीर में पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी (Vitamin D) मौजूद है, कोरोना वायरस से उनकी मौत का खतरा 50 फीसदी कम है। शोधकर्ताओं ने अपने शोध में पाया है कि विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा वाले मरीजों में अस्पताल में मृत्यु दर 52 फीसदी तक कम हैं। इसके साथ ही शोध में दावा किया गया है कि विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा वालें मरीजों को आईसीयू में जाने के मामले 46 फीसदी कम है, इसके अलावा इन मरीजों की गंभीर रूप से बीमार पड़ने की संभावना भी 13 फीसदी कम रहती है।

इसे भी पढ़े:कोरोना संक्रमण के मामले 59 लाख के पार, टेस्टिंग का आकंड़ा 7 करोड़ के पार

बता दें कि कोरोना वायरस से लड़ने में इम्यून सिस्टम महत्वपूर्ण माना जाता है, जिनका इम्युन सिस्टम मजबूत रहता है, वह इससे जल्दी ठीक हो जाते है। वैज्ञानिको ने बताया कि बिटामिन डी इम्युन सिस्टम को मजबूत बनाता है। वैज्ञानिकों ने बताया कि अमेरिका में 42 फीसदी लोगों में विटामिन डी की कमी है, इस वजह से अमेरिका में कोरोना से मरने वालों की संख्या दुनिया के अन्य देशों की अपेक्षा ज्यादा है। इसके अलावा वैज्ञानिकों ने बताया कि ज्यादा उम्र के लोगों में भी विटामिन डी की कमी पाई गई है, इसी वजह से बुजुर्ग इस वायरस की चपेट में जल्दी आ जाते है।

Related Articles

Back to top button