हिन्दुओं को एकजुट करने में जुटी भाजपा, लिंगायत संत से मिले अमित शाह

0

तुमकुरु| कर्नाटक में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह जीत हासिल करने में कोई भी कसर छोड़ना नहीं चाह रहे हैं। इसी क्रम में अमित शाह ने सोमवार को शिद्धगंगा मठ में 110 वर्षीय लिंगायत संत, शिवकुमार स्वामी से मुलाकात की विधानसभा चुनाव में पार्टी की सफलता के लिए उनका आशीर्वाद लिया।

अमित शाह

इस बात की जानकारी देते हुए अमित शाह ने कहा कि जब मैंने श्रद्धेय स्वामीजी से मुलाकात की, तो मुझे ऐसा लगा कि मैं भगवान के दर्शन कर रहा हूं। मैंने राज्य विधानसभा चुनाव में पार्टी की सफलता के लिए उनसे आशीर्वाद मांगा। उन्होंने इस बात पर भी खुशी जताई कि प्रसिद्ध लिंगायत मठ पूरे राज्य में 125 शैक्षणिक संस्थान चला रहा है और लोगों की भलाई से जुड़े कई काम कर रहा है।

अमित शाह ने कहा स्वामीजी ने शिक्षा के जरिए समाज के सभी वर्गो के लोगों को एक साथ लाने में सफलता पाई है। उन्होंने कहा कि शिवकुमार स्वामी से यह मुलाकात ऐसे समय में की है, जब एक हफ्ते पहले 19 मार्च को मुख्यमंत्री सिद्धारमैया नीत कांग्रेस सरकार ने लिंगायत और वीरशैव लिंगायत को एक अलग धर्म का दर्जा देने के निर्णय लिया है।

राज्य सरकार ने 23 मार्च को 12वीं शताब्दी के समाज सुधारक बासवा के अनुयायियों को कुछ समुदायों के विरोध के बावजूद धार्मिक अल्पसंख्यक का दर्जा देने को लेकर अधिसूचना जारी कर दी है। राज्य में लिंगायत समुदाय की आबादी 17 प्रतिशत है और ऐसा माना जा रहा है कि सरकार ने यह कदम आगामी विधानसभा चुनाव में इस समुदाय को लुभाने के लिए उठाया है।

कर्नाटक में भाजपा का मुख्यमंत्री चेहरा बीएस येदियुरप्पा लिंगायत समुदाय से हैं और उन्होंने कांग्रेस की इस पहल को हिंदू मतों को बांटने का प्रयास बताया है। राजनीतिक पर्यवेक्षक शाह के मठ दौरे को लिंगायत समुदाय को अपने पक्ष में करने के प्रयास के तौर पर देख रहे हैं।

loading...
शेयर करें