लाल किले पर हुई हिंसा में घायल पुलिसकर्मियों से मिलने पहुंचे अमित शाह

गृहमंत्री अमित शाह दिल्ली हिंसा में घायल हुए जवानो से आज तीरथराम और सुश्रुत ट्रॉमा सेंटर में मिलेंगे और उनका हाल जानेंगे।

नई दिल्ली: गृहमंत्री अमित शाह दिल्ली हिंसा में घायल हुए जवानो से मिलने तीरथराम और सुश्रुत ट्रॉमा सेंटर पहुंचे वहां उन्होंने घायल पुलिस कर्मियों से मिलकर उनका हाल जाना और उनसे बात की आपको बतादें कि 26 जनवरी को किसानो द्वारा निकाली गई ट्रेक्टर रैली में हिंसा के दौरान किसानो और दिल्ली पुलिस में झड़प हो गई थी जिसमे लगभग 394 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे।

26 जनवरी को लाल किले पर दिल्ली पुलिस और किसानो के बीच हुई हिंसक झड़प में 300 से ज़्यादा पुलिस कर्मी घायल और 1 किसान की मौत हो गई। जिसके बाद पूरे देश में किसान आंदोलन को लेकर लोगो का नज़रिया बदल गया। हर तरफ लोग किसानो को गलत ठहराने लगे लेकिन अब सवाल ये उठता है कि पिछले 2 महीने से चल रहे किसानो के शांतिपूर्ण आंदोलन का बदला उन्हें क्या मिला ? क्यों सरकार के किसी नेता ने जाकर उन्हें समझने की कोशिश नहीं की या फिर जब आंदोलन में किसानो की मौत हुई तो फिर कोई नेता उनका हाल जानने क्यों नहीं गया।

घायल पुलिस कर्मी ICU में भर्ती 

गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के सिलसिले में अब तक लगभग 19 लोगों को गिरफ्तार किया जा  चुका है और दिल्ली पुलिस ने 25 से अधिक आपराधिक मामले दर्ज किए हैं। कुछ पुलिस कर्मियों को उनकी गंभीर स्थिति के कारण ICU वार्ड में भर्ती किया गया है।

दूसरी तरफ भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि 26 जनवरी को दिल्ली में ट्रैक्टर रैली काफी सफलतापूर्वक हुई। अगर कोई घटना घटी है तो उसके लिए पुलिस प्रशासन ज़िम्मेदार रहा है। उन्होंने कहा यह कैसे संभव है कि कोई लाल किले पर पहुंच जाए और पुलिस की एक गोली भी न चले। यह किसान संगठन को बदनाम करने की रची गई एक साजिश थी। और आगे भी किसान आंदोलन जारी रहेगा।

यह भी पढ़े: Bigg Boss 14 में जाने से Bigg Boss 13 के किस कंटेस्टेंट ने किया इंकार, Salman Khan है वजह

Related Articles