अमित शाह का ममता बनर्जी पर बड़ा हमला, कहा- पश्चिम बंगाल में अगला मुख्यमंत्री बीजेपी का होगा

नई दिल्ली: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बिहार के बाद आज पश्चिम बंगाल जन संवाद रैली को संबोधित किया. दिल्ली से वर्चुअल रैली के माध्यम से अपने संबोधन में शाह ने मुख्य मंत्री ममता बनर्जी पर जोरदार हमला बोला. शाह ने अपने संबोधन में कहा कि देश ने भले ही बीजेपी को 303 सीटें दी, लेकिन मेरे जैसे कार्यकर्ता के लिए सबसे महत्वपूर्ण है कि बंगाल के लोगों ने हमें 18 सीटें दी.

बंगाल सरकार पर केंद्र की योजनाएं लागू न करने का आरोप लगाते हुए शाह ने ममता बनर्जी को चुनौती दी और कहा, “ये राजनीति की चीज़ नहीं है, राजनीति के कई और मैदान हैं आप मैदान तय कर लो, दो-दो हाथ हो जाए. आप बंगाल में गरीबों के लिए केंद्र की योजना आने नहीं दे रही हैं.”

अमित शाह ने आगे कहा कि जब जन सम्पर्क और जन संवाद का इतिहास लिखा जाएगा तो नड्डा जी के नेतृत्व में भाजपा द्वारा किया गया वर्चुअल रैली का ये प्रयोग एक विशेष अध्याय के रूप में लिखा जाएगा. कोरोना महामारी और अम्फान के कारण जिन लोगों की जान गई हैं, उन सभी की आत्मा की शांति के लिये मैं प्रार्थन करता हूं.

बंगाल में अगला मुख्य मंत्री बीजेपी का होगा- शाह

ममता पर तीखा हमला बोलते हुए शाह ने आगे कहा कि हमने प्रवासी मजदूरों के लिये जो ट्रेन चलाई उन्हें श्रमिक ट्रेन नाम दिया, लेकिन ममता बनर्जी ने इन ट्रेन को कोरोना एक्सप्रेस बोलकर मजदूरों का अपमान किया. शाह ने कहा कि मजदूरों की यही गाड़ी आपको बाहर करेगी. आप कुछ भी कर लो, बंगाल में अगला मुख्य मंत्री बीजेपी का ही होगा.

जनधन खाते खोलने पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए शाह ने कहा कि आज इस मुश्किल वक्त में 51 करोड़ लोगों के बैंक अकाउंट में करोड़ों रुपये डाला गया है. यह जनधन खातो की वजह से ही संभव हो पाया.

शाह ने आगे ममता पर हमला बोलते हुए कहा कि हम अपनी सरकार के काम का हिसाब दे रहे हैं, ममता जी आप भी 10 साल का हिसाब बताइये, लेकिन बम धमाकों और बीजेपी कार्यकर्ताओं की मौत का आंकड़ा मत बताइयेगा.

उन्होंने आगे कहा कि जब सीएए आया तो ममता जी का चेहरा गुस्से से लाल हो गया था. मैंने इतना गुस्सा कभी किसी के चेहरे पर नहीं देखा. ममता जी आप सीएए का विरोध कर रही हैं. आप बताइए नामशूद्र और मतुआ समाज से आपको क्या दिक्कत है. सीएए का विरोध आपको बहुत महंगा पड़ेगा, जब मतपेटी खुलेंगी तो जनता आपको राजनीतिक शरणार्थी बनाने वाली है.

Related Articles