अनकिया वेलफेयर फाउंडेशन और मोटिवेजर्स क्लब ने अंडर प्रिविलेज्ड बच्चों के साथ मनाई जन्माष्टमी

0

रविवार के दिन जहां सभी देर तक सोने, घूमने और मूवी का प्लान बनाते हैं वहीं जन्माष्टमी के मौके पर अनकिया वेलफेयर फाउंडेशन और मोटिवेजर्स क्लब ने मिलकर तमाम जरूरतमन्द बच्चों( अंडर प्रिविलेज्ड) को खुशी देने का प्रयास किया।  आमतौर पर रोज़मर्रा की जिंदगी बच्चे ऐसी तमाम चीजें हांसिल करने के ख्वाब देखते है लेकिन कुछ कारणवश वो उसे देखकर खुश हो लेते हैं।

दिन की शुरुआत में सभों को हाइडआउट कैफे ले जाया गया जहां बच्चों के लिए रोजाना जीवन से हट कर कई एक्टिविटी कराई गयी। बच्चों से उनके बारे में, उनके जीवन के बारे में, उनकी शिक्षा से लेकर उनके शौक के बारे में जाना गया जिसके बाद उन्हे प्रोत्साहित किया गया कि आपकी ख़्वाहिशों को पूरा करने में हम आपकी मदद करेंगे और आपके मनोरंजन और जीवन के विकास के लिए भी बेहतर प्रयास करेंगे।

बच्चों से बात करने के बाद शुरू हुआ ‘बूझो तो जाने’ जिसमें तमाम ऐसी पहेलियाँ पूछी गयी जिसमें सभी बच्चों ने बेहतर प्रयास किया लेकिन सबसे ज्यादा सभी जवाब बताने वाली गायत्री कुमारी विजेता बनी।

वहीं बच्चो के मनोरंजन के लिए टंग ट्विस्टर भी खिलाया गया जिसमें सुधा कनौजिया और सूरज कुमार ने सबसे जल्दी और सही वाक्य बोल कर जीत हासिल की।

बच्चों से बातचीत में पता चला कि कुछ बच्चों को क्राफ्ट में, कुछ को संगीत में तो कुछ को खेल में काफी आगे हैं। वहीं उन्हीं बच्चों में से सुधा कनौजिया और रूबी यादव ने अपनी मधुर आवाज से तुम देना साथ मेरा गाना गया जिसे सुनकर पूरे कैफे में तालियों की गड़गड़ाहड़ गूंज उठी।

अनकिया वेलफेयर  फाउंडेशन के डायरेक्टर राहुल सिंह ने कहा कि ,मेरा मानना है हर बच्चे का हक है आगे बढ़ना, अच्छे वातावरण में अच्छी परवरिश पाना और हमारा शन इन इन चीजों के लिए काम कातरता है, हमे खुशी है कि हमने इन बच्चों को ऐसा मस्तीभरा दिन दिया जोकि लो इकोनोमिकल स्टेट्स से आने वालो बच्चों की सामान्य जरूरत भी पूरी नहीं हो पाती।

मौके पर मौजूद अनकिया वेलफेयर फाउंडेशन के डायरेक्टर राहुल सिंह ने इस इवैंट के जरिये हमारा उदेश्य बच्चों के चेहरे पर मुस्कुराहट लाना था और उन्हे जिंदगी के इस पहलू का भी एहसास कराना था जिससे अपनी संघर्ष भरी जिंदगी में खुशी के पल का एहसास करा सकें। राहुल सिंह ने आगे कहा कि हम कोशिश करते हैं कि हम जिंदगी के तमाम सुख से वंचित रहने वाले बच्चों के लिए ऐसे कार्यक्रम आयोजित करते रहे।

मौके पर मौजूद सभी बच्चों को प्रोत्साहित करते हुए उन्हे स्कूल बैग, टिफिन और पेंसिल बॉस गिफ्ट किया गया। बच्चो को दोपहर का लंच कराने के बाद लोहिया पार्क ले जया गया जहां पर उनकी जानकारी बढ़ाने और स्वस्थ रहने के लिए कुछ वर्कशॉप कराई गयी।

पहली वर्कशॉप में आस्था सिंह और ईशिता चौहान ने बच्चो को स्वस्थ भोजन के सेवन का महत्त्व एवं पौष्टिक आहार बनाने के तरीके बताए वहीं अपनी दिनचर्या को सुधारने के लिए भीकुछ टिप्स भी दिए।

दूसरी वर्कशॉप में शिखर यदुवंशी ने जीवन में खेलों का महत्त्व और योग करने के तरीके व उनसे होने वाले फ़ायदों के बारे में बताया जिसे बच्चे आसान तरीके से कर सकें।

इसके बाद समय हो चुका था शाम की मस्ती और खानपान की तरफ बढ़ने का। बच्चों का अगला डेस्टिनेशन फन मॉल था जहां जा कर उन्होने मेकडोनल्स में बर्गर, कोल्ड कॉफी व आइसक्रीम जैसे  पकवानों का लुफ्ट उठाया। वहीं एक किताबों की दुकान पर जाकर विभिन्न प्रकार की किताबों की चर्चा की।

loading...
शेयर करें