नए साल पर बसपा को एक और बड़ा झटका, इस ब्राह्मण नेता ने थामा सपा का दामन

विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक दलों में उठा पटक जारी

UP के 2022 के विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक दलों में उठा पटक जारी है. समाजवादी पार्टी लगातार अपना कुनबा मजबूत करती नजर आ रही है. नए साल के तीसरे दिन यानी सोमवार को सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बीएसपी को एक और झटका दिया है. लालजी वर्मा, राम अचल राजभर के बाद अब अंबेडकरनगर के पूर्व सांसद राकेश पाण्डेय ने सपा का दामन थाम लिया है. सपा मुख्यालय पर अखिलेश यादव ने राकेश पांडेय की पार्टी की शपथ दिलाई है.

करीबी को दिलाना चाहते थे टिकट

सियासी गलियारों में चर्चा है कि बसपा के पूर्व सांसद और वरिष्ठ नेता राकेश पांडये यूपी विधानसभा चुनाव 2022 के लिए अपने एक करीबी को जलालपुर विधानसभा सीट से टिकट दिलाना चाहते थे, पर पार्टी पहले ही टिकट लगभग फाइनल कर चुकी है. चर्चा है कि इस सीट से बीजेपी से आए राजेश सिंह को बीएसपी ने मैदान में उतार दिया. शायद यही वजह है कि राकेश पांडेय ने सपा का दामन थाम लिया है.

12 साल बाद हुई वापसी

बता दें, 2009 में राकेश पांडेय साइकिल छोड़कर हाथी पर सवार हुए थे. राकेश बीएसपी के टिकट चुनाव लड़े और लोकसभा पहुंच गए. यहीं नहीं इसके बाद समाज और पार्टी में राकेश की पकड़ मजबूत होती गई. इसके देखते हुए बीएसपी ने उनके बेटे को जलालपुर सीट से टिकट दे दिया. रितेश पांडेय ने जीत दर्ज की और जलालपुर सीट से विधायक बन गए. इसके बाद फिर 2019 में रितेश को मायावती लोकसभा में प्रत्याशी बनाया और रितेश भी लोकसभा पहुंच गए.

Related Articles