भारत के रखवालों को मिली एक और कामयाबी

0

फिर सेना से नहीं बच पाए आतंकी

शनिवार सुबह दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले में सेना नें दो आतंकियों को ढेर कर दिया| सूत्रों के मुताबिक सेना को पहले ही 3 आतंकियों के घिरे होने की सूचना मिल गयी थी| आतंकियों के घिरे होने कि सूचना पाते ही सेना ने उनको चरों ओर से घेर लिया और कारवाई शुरू कर दी| आतंकियों की तलाश के लिए ऑपरेशन चलाया गया जिसमे सेना की 34 आरआर टुकड़ी और एसओजी शोपियां एक साथ लगी हुई थी|

कैसे हुई आतंकियों की तलाश?

गहंड क्षेत्र के सुरक्षाबलों को आतंकवादियों के मौजूद होने की सूचना मिली थी| सूचना मिलते ही सुरक्षाबलों ने शनिवार को क्षेत्र की घेराबन्दी करना शुरू कर दिया और जैसे ही घेराबन्दी शुरू हुई आतंकवादियों ने सेना पर गोलियों से प्रहार करना शुरू कर दिया। उनके प्रहार के बाद सेना भी उनपर गोली बरसानी लगी और फिर दोनो ओर से जमकर गोलीबारी शुरू हो गई।

कितने आतंकी हुए ढेर?

 राष्ट्रीय राइफल्स की उग्रवाद रोधी इकाइयां और राज्य पुलिस के विशेष अभियान समूह जब सर्च ऑपरेशन चला रहे थे तब उनकी परगुची गांव में आतंकियों से मुठभेड़ हुई| मुठभेड़ में  छिपे हुए आतंकियों ने सुरक्षा बलों पर गोलियां चलाईं और सेना नें इस मुठभेड़ में दो आतंकियों को मारगिराया| मारेगए आतंकियों में हिजबुल मुजाहिदीन के दो आतंकियों में से एक एम.टेक का छात्र था| गांदरबल जिले के नुनेर गांव से ताल्लुक रखने वाला राहिल राशिद शेख इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा था और तीन दिन पहले ही वह आतंकी बना था| मारे गए दूसरे आतंकी की पहचान शोपियां जिले के कीगम गांव के निवासी बिलाल अहमद के रूप में हुई|

 

loading...
शेयर करें