‘सेक्रेड गेम्स’ के संबंध में राहुल गांधी के इस बयान की अनुराग कश्यप ने की प्रशंसा

मुंबई। फिल्मकार अनुराग कश्यप ने अपने शो ‘सेक्रेड गेम्स’ के संबंध में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के उस बयान की प्रशंसा की है, जिसमें उन्होंने कहा है कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता एक मौलिक और लोकतांत्रिक अधिकार है। अनिल अंबानी के नेतृत्व वाले ‘रिलायंस एंटरटेनमेंट’ के ‘फैंटम फिल्म्स’ द्वारा निर्मित वेब श्रंखला ‘सेक्रेड गेम्स’ में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को अपमानित करने वाले कुछ संवादों को हटाने के संबंध में इसके खिलाफ कानूनी याचिका दायर की गई है।

‘सेक्रेड गेम्स’ पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए राहुल गांधी ने शनिवार को ट्वीट किया, “भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) या राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का मानना है कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर नियंत्रण होना चाहिए। मेरा मानना है कि ये स्वतंत्रता मौलिक लोकतांत्रित अधिकार है।”

उन्होंने कहा, “मेरे पिताजी देश की सेवा के लिए जीए और मर गए। एक काल्पनिक वेब श्रंखला के किरदार के विचार उनके योगदान को कभी नहीं बदल सकते। वेब श्रंखला को विक्रमादित्य मोटवानी के साथ निर्देशित कर रहे अनुराग ने इस पर कहा, “यह शानदार है।”

सामाजिक राजनीतिक मुद्दों पर अक्सर अपने विचार रखने वाली अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने लिखा, “यह प्रभावित करता है कि राहुल गांधी जैसे मुख्य धारा के राजनेता सेंसरशिप और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर स्पष्ट और प्रगतिशील विचार रखते हैं। इसके अलावा लोकतांत्रिक स्वतंत्रता के बड़े लक्ष्यों के लिए निजी मामलों को किनारे रखने की उनकी क्षमता उन्हें दयालु और परिपक्व बताती है।”

विक्रम चंद्रा के उपन्यास ‘सेक्रेड गेम्स’ पर आधारित श्रंखला में इंदिरा गांधी सरकार द्वारा लगाए गए आपातकाल के साथ-साथ बोफोर्स घोटाला और शाह बानो मामले का उल्लेख किया गया है। इन्हीं मामलों ने राजीव गांधी के प्रधानमंत्री काल में तूफान ला दिया था।

फिल्म उद्योग के ज्यादातर लोगों, दर्शकों और यहां तक कि अंतर्राष्ट्रीय मीडिया में भी प्रशंसा पा रहे शो में सैफ अली खान, नवाजुद्दीन सिद्दीकी और राधिका आप्टे प्रमुख भूमिकाओं में हैं।

फिल्मकार करण जौहर ने ट्वीट किया, “मानदंड तय हो गया है। ‘सेक्रेड गेम्स’ इस सीजन का सर्वश्रेष्ठ डिजिटल कंटेंट है। बेहतरीन लेखन, संपादन और पर्दे पर उतारा गया। अपराध पर आधारित यह श्रंखला आपको चौंका देगी और आप इसका अगला सीजन बुक करने के लिए मजबूर हो जाएंगे। शाबाश।”

Related Articles