नेहरु के बनाये कानून के कारण कोई भी कर सकता है किसी भी धर्म में शादी

0

नेहरु का बनाया हुआ कानून है किसी धर्म में शादी करना

देश आजाद होने के बाद वर्ष १९५४ में तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने एक ऐसा कानून बनाया, जिसमे किसी भी धर्म के स्त्री, पुरुष स्पेशल मैरिज एक्ट 1954 के तहत अपनी शादी कर सकते है. इसके कानून के बन्ने से समाज पर उस समय बहुत ही प्रभाव पड़ा. इसमें किसी भी धर्म को मानने वाले लोग शादी कर सकते थे.इस तरह इस कानून का मतलब यह हुआ कि अगर कोई लड़का हिंदू है, तो वह किसी दूसरे धर्म यानी मुस्लिम या इसाई लड़की से शादी कर सकता है. इसी तरह कोई हिंदू लड़की किसी दूसरे धर्म यानी मुस्लिम या इसाई लड़के से शादी कर सकती है. जब जवाहरलाल नेहरू ने भारतीय संसद से इस कानून को पारित कराया तो उनको रूढ़िवादियों के कड़े विरोध का सामना करना पड़ा था. इसके बावजूद भी उन्होंने इस कानून को बनाया.

स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत होने वाली शादी में महिला और पुरुष को उतना ही अधिकार मिलता है, जितना दूसरे मैरिज होने वाली शादी के बाद मिलता है. जहां तक उत्तराधिकार का सवाल है, तो हिंदू मैरिज एक्ट के तहत शादी करने पर हिंदू  उत्तराधिकार एक्ट के तहत उत्तराधिकार मिलता है जबकि मुस्लिम लॉ के तहत शादी करने पर शरीयत कानून के तहत उत्तराधिकार हासिल होता है.स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत भारतीय नागरिक विदेशियों से भी शादी कर सकते हैं और ऐसी शादी को पूरी तरह से कानूनी माना जाता है. स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी करने के लिए किसी पंडित, पादरी, मौलवी या ग्रंथी की जरूरत नहीं है. स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी करने के लिए ADM ऑफिस में अर्जी देनी होती है. उम्र का प्रमाण पत्र और इस बात का हलफनामा देना होता है कि दोनों बिना किसी दबाव के शादी कर रहे हैं.

इसके बाद दोनों का फिजिकल वेरीफिकेशन होता है और फिर दोनों को 30 दिन बाद बुलाया जाता है. इस दौरान इसकी सूचना नोटिस बोर्ड में चस्पा दी जाती है. इस बीच अगर किसी को कोई आपत्ति होती है, तो वो आकर बता सकता है. वहीं, एक महीने बाद शादी करने वाले दोनों लड़की और लड़के को एडीएम के सामने पेश होना होता है.  इसके बाद मैरिज रजिस्टार गवाहों के सामने दोनों को शपथ दिलाते हैं और फिर शादी रजिस्टर कर लेते है. साथ ही मैरिज सर्टिफिकेट जारी कर देते हैं. इस शादी के लिए किसी मौलवी, पादरी पुरोहित की जरूरत नहीं होती है. इसमें सिर्फ तीन गवाह की जरूरत पड़ती है.

स्पेशल मैरिज एक्ट 1954 की धारा 4 के तहत शादी की शर्तों का उल्लेख किया गया है जो इस प्रकार है

1. लड़की की उम्र 18 साल और लड़की की उम्र 21 साल पूरी हो चुकी हो.

2. दोनों की मेंटल कंडीशन अच्छी हो ताकि वो कानूनी तौर पर अपनी शादी की सहमति दे सकें.

3. दोनों में से कोई दांपत्य जीवन में नहीं होना चाहिए यानी अगर उनकी पहले से शादी हो चुकी है तो उनका जीवित जीवनसाथी न हो या फिर तलाक हो गया हो.

4. दोनों करीबी रिश्तेदार ना हो. इसका मतलब यह हुआ कि दोनों के बीच भाई, बहन, मौसी, मौसिया, बुआ, फूफा या चाचा, चाची जैसा कोई करीबी रिश्ता ना हो.

loading...
शेयर करें