डेंगू और मलेरिया के अलवा भी कई बीमारियां फैलाते हैं मच्छर

मानसून सीजन में मच्छर तेजी से पनपते हैं, जो डेंगू, मलेरिया और चिकुनगुनिया जैसी खतरनाक बीमारी फैलाते हैं. इनके अलावा भी मच्छर कुए गंभीर बीमारियां फैलाते हैं. मच्छर के बारे में सुनते ही सबसे पहले दिमाग में डेंगू (Dengue) और मलेरिया जैसी बीमारियां आती हैं. मच्छरों की वजह से मानसून के सीजन में डेंगू और मलेरिया सबसे ज्यादा फैलता है. लेकिन इन दो बीमारियों के अलावा भी कुछ ऐसी बीमारियां हैं, जो मच्छर से फैलता हैं. अगर समय पर इनका इलाज न कराया जाए तो ये बीमारियां भी जानलेवा साबित हो सकती हैं. आज हम आपको मच्छर से फैलने वाली कुछ ऐसा ऐसी ही बीमारियों के बारे में बता रहे हैं. साथ ही हम इन बीमारियों के लक्षण और बचाव के उपाय के बारे में भी बता रहे हैं.

मानसून सीजन में एडीज मच्छर के काटने से डेंगू बुखार होता है. इसमें तेज फीवर आता है और करीब 5 से 10 दिन में इंफेक्टेड पर्सन में डेंगू के लक्षण दिखने लगते हैं. बारिश के मौसम में डेंगू बुखार एक बड़ी बीमारी बन जाता है. डेंगू बुखार के लक्षण फ्लू जैसे होते हैं इसलिए फीवर आने पर कोई घरेलू उपचार की बजाय डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए. डेंगू में प्लेटलेट्स काफी कम हो जाते हैं. बहुत कम होने पर ये खतरनाक हो सकता है. डेंगू से बचने के लिए फुल स्लीव्स के कपड़े पहनें और मच्छर भगाने वाले प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करें.इसके अलावा सोते वक्त मच्छरदानी का प्रयोग करें. ध्यान रखने वाली बात है कि एडीज मच्छर साफ रखे हुए पानी में पनपता है इसलिए घर में या आसपास पानी जमा ना होने दें.

चिकुनगुनिया फैलाता है एडीज मच्छरडेंगू के अलावा एडीज मच्छर चिकुनगुनिया बीमारी भी फैलाता है. इसके सामान्य लक्षणों में बुखार, शरीर में दर्द, सिरदर्द होता है साथ ही त्वचा पर चकत्ते पड़ जाते हैं. इसके अलावा चिकनगुनिया में जोड़ों में बहुत दर्द होता है और जोड़ों का दर्द कई हफ्तों से लेकर महीनों और सालों तक भी रह सकता है. एडीज मच्छर कई तरह की बीमारी फैलाता है इसलिए इस मच्छर से बचाव का उपाय करना जरूरी है.

एडीज मच्छर काफी खतरनाक है और ये डेंगू-चिकनगुनिया के अलावा पीले बुखार का कारण बन सकता है. पीले बुखार के लक्षणों में बुखार, सिरदर्द, पीलिया और मांसपेशियों में दर्द होता है. कुछ लोगों को नाक या मुंह से ब्लड आने जैसे लक्षण भी हो सकते हैं. ऐसी जगह जहां पीला बुखार फैल रहा हो वहां जाने से पहले टीका लगवाना सबसे अच्छा है. मलेरिया मच्छर के काटने से फैलने वाली बीमारी है. ये हर सीजन में काफी लोगों को संक्रमित करती है. मादा एनोफेलीज मच्छर के काटने से मलेरिया होता है. इसके लक्षणों में बुखार, ठंड लगना और सिरदर्द शामिल हैं. वैसे मलेरिया का इलाज संभव है, लेकिन अगर समय पर इलाज न किया जाए तो यह बीमारी जानलेवा हो सकती है.

जापानी इंसेफेलाइटिस या आम भाषा में इसे जापानी बुखार कहते हैं. यह बीमारी क्यूलेक्स मच्छरों के काटने से फैलती है. एशिया में इस बीमारी के सबसे ज्यादा मामले सामने आते हैं. इस रोग के लक्षणों में बुखार और सिरदर्द शामिल हैं, कुछ लोगों में शरीर का ऐंठना और लकवा जैसे गंभीर लक्षण भी हो सकते हैं. इस बुखार का असर दिमाग पर भी पड़ता है. मच्छरों से बचाव के अलावा टीका लगवाना जापानी इंसेफेलाइटिस से बचने का तरीका है.

एडीज एल्बोपिक्टस मच्छर जीका वायरस को फैला सकता है. जीका वारयस काफी खतरनाक बीमारी मानी जाती है. इसके लक्षणों में लाल आंखें, थकान और मांसपेशियों में दर्द शामिल है. ज्यादातर लोग जो इस वायरस से संक्रमित होते हैं.

Related Articles

Back to top button