मेष राशि 2018 : इस महीने में खराब हो सकती है तबीयत, जानिए कैसा जाएगा पूरा साल

0
*।।मेष राशि का  वार्षिक राशिफल।।*
*(चू, चे, चो, ला, ली , लू, ले, लो, अ)*
मेष राशि में नवीन वर्ष के आरंभ से 10 अक्टूबर तक गुरु बृहस्पति की सप्तम दृष्टि रहेगी जिसके परिणामस्वरूप इस अवधि में मेष राशि के जातकों की प्रवृत्ति धार्मिक व आध्यात्मिक कार्यों में प्रायःबनी रहेगी। 15 जनवरी से6 मार्च तक मंगल के आठवें भाव मे होने से मेष राशि के जातकों को सम्भवतः स्वास्थ्य कष्ट , पारिवारिक उलझनें व गुप्त चिंताएं प्रभावित कर सकती है।2 मई से 5 नवम्बर तक मंगल के उच्च भाव मे होने से मेष राशि के जातकों के बिगड़े कार्य पूर्ण होने की सम्भवना है। 6 नवम्बर से 22 दिसम्बर तक मंगल कुम्भ राशिगत  होने से कुछ परेशानियां ला सकता है।
*जनवरी:-* इस माह गुरु व मंगल की सुदृष्टि होने से मेष राशि के जातकों के मान सम्मान में वृद्धि, व्यापार में लाभ, यात्रा में अनुकूलता उच्चसीन या व्यक्ति विशेष के संपर्क से लाभ दे सकता है। 15 जनवरी शायं से  मंगल के अष्टम भाव के संस्पर्श से गृह कार्यों में उलझने  आ सकती हैं, व्यापार में अपव्यय का सामना करना पड़ सकता है बनते कार्यों में अड़चनों का सामना भी करना पड़ सकता है।
*उपाय:-*सम्भव होतो मंगल वार का नियम पूर्वक व्रत रखें अथवा प्रत्येक मंगलवार 108 हनुमान चालीसा का पाठ करें व प्रसाद में गुड़ बाटें।
*फरवरी:-* इस माह मेष राशि के जातकों पर अष्टमेष गुरु व मंगल के बावजूद आय के संसाधनों में समता बने रहने की संभावना है। घर मे मांगलिक कार्यों के सम्पादन की स्थितियां बनेगी। इस दौरान भूमि के क्रय विक्रय में विशेष सावधानियाँ बरते तो उत्तम होगा।
*उपाय:-*महाशिवरात्रि या सोमवार के दिन इच्छुरस से भगवान शिव का अभिषेक अवश्य करें।
*मार्च:-* 5 मार्च से भाग्यभाव   में गुरु की दृष्टि के कारण बिगड़े कार्यों में धीरे-धीरे सुधार होगा व इस दौरान जातको को स्वास्थ्य लाभ भी मिलेगा। 18 मार्च के बाद धार्मिक कार्यों में अभिरुचि बढ़ेगी भूमि वाहन पुत्रादि लाभ प्राप्त होने के योग बन सकेंगे। इस दौरान सुदूर यात्रा के योग बन सकते है।
*उपाय:-*दुर्गापाठ लाभ प्रद रहेगा।व  सवाकिलो चने की दाल का  करें।
*अप्रैल:-* इस माह  कम परिश्रम से लाभ मिलता दिखेगा।भूमि वाहन का सुख प्राप्त होसकता है। 4 तारीख के उपरांत पारिवारिक जीवन मे परस्पर प्रेम व उत्साह के योग बनेंगे। जरूरी कार्यों में व्यय बढ़ सकता है।14 तारीख के उपरांत सूर्य उच्च होने से मान सम्मान में वृध्दि व्यक्ति विशेष से मधुर सम्बंद बढ़ेंगे।
*उपाय:-*आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करना व काले तिल का दान देना उत्तम होगा।
*मई:-* मंगल के उच्च होने से रुके कार्यों में प्रगति की संभावना  बन सकती है। किंतु केतु के गोचर करने से इस माह अतिरिक्त भाग दौड़ बनी रहेगी।सन्तान पक्ष को ले कर चिंता बनी रह सकती है।
*उपाय:-*सिद्धिकुंजिकास्तोत्र का पाठ   करें व नारियल का दान दें उत्तम होगा।
*जून:-* इस माह आपकी यात्र थोड़ी मोड़ी झंझावतों से युक्त रह सकती है।परिस्थितियां प्रतिकूल रहने पर भी आत्मीय जनों के सहयोग से आय के साधन बनते रहेंगे। व्यापार में मध्यम लाभ मिलता रहेगा। धोखे बाजों से सावधान रहना हितकर होगा।
*उपाय:-*इस मां यदि हो सके तो सर्वारिष्ट का पाठ करावें या 9कन्याओं का सविधि पूजन कर भोजन करावें।
*जुलाई:-* इस दौरान मंगल वक्री होने से घरेलू उलझने बढ़ सकती है परिजनों के द्वारा तिरस्कार मिल सकता है।  क्रोध व उत्तेजना से बनता कार्य बाधित हो सकता है ।  अनचाहे कार्यों को करना पड़ सकता है। लाभ रुक रुक कर होने की संभावना बन रही है।
*उपाय:-*भगवान शिव को श्री राम चरितमानस का पाठ सुनावें।
*अगस्त:-* 26 तारीख तक मंगल वक्री रहने से परिस्थितियों में खासा सुधार नही देखने को मिलेगा। सन्तान सम्बंधित कार्य पूर्ण होंगे।  किन्तु धन का अपव्यय व फिजूल की यात्रा करनी पड़ सकती है।
*उपाय:-*सुंदरकाण्ड का यथा सम्भव पाठ करें व हर मंगलवार सवा पाव बेसन के मिष्ठान्न का प्रसाद हनुमानजी को अर्पित करें।
*सितम्बर:-* इस माह में मंगल के मार्गी हो जाने के कारण जोखिम के कार्य भी सम्पन्न होंगे।  धन में इजाफा मिलेगा किंतु खर्चे ज्यों के त्यों बने रह सकते हैं।व्यापारिक कार्यों में विलंब की संभावना बन सकती है।
*उपाय:-* गोपीगीत का पाठ अवश्य करें।
*अक्टूबर:-* इस माह विद्यार्थियों को लाभ मिलेगा स्वजनों के सहयोग से रुके कार्यों में प्रगति आएगी। रुका धन आता दिखेगा किन्तु पूरा धन नही प्राप्त हो पायेगा।11 तारीख से गुरु अष्टम के होकर जातक को स्थान परिवर्तन व्यापर परिवर्तन आदि समस्यांए बन सकती है।
*उपाय:-*श्रीमद्भागवत कथा का श्रवण करें।और आंवला का दान करें।
*नवम्बर:-* इस माह के दौरान भगवान भुवनभास्कर के उच्चस्थ हो जाने पर रोज के कार्यों में इजाफा है होगा। धन लाभ के योग बनेंगे, व्यक्ति विशेष का सहयोग मिलेगा ,भाई बन्धुओं  व मित्रों से लाभ होगा। शैक्षिक कार्यों में अभिरुचि आएगी व सफलता भी मिलेगी। मां सम्मान में वृध्दि होगी।
*उपाय:-*श्री हनुमान जी को तुलसी की माला अर्पित करें ।
*दिसम्बर:-* इस दौरान व्यापार में काभी उतार चढ़ाव का सामना करना पड़ेगा। समयानुसार सही निर्णय लेना हितकर होगा।शत्रुओं का भय बना रह सकता है।परिश्रम  के अनूकूल सफलता नही मिल पाएगी।
*उपाय:-*श्रीहनुमान बाहुक का पथ करें।लाभ होगा
।।आचार्य स्वामी विवेकानन्द।।
।।ज्योतिर्विद व वास्तु विद।।
संपर्क सूत्र-9044741252
loading...
शेयर करें