समर कैंप में दी जाएगी आर्मी जैसी ट्रेनिग बच्चों को सेना सिखाएगी साहस और चतुराई के गुण

देश की सुरक्षा में हमेशा डंटे रहने वाली सेना राजस्थान के माउंट आबू पर बच्चो को साहस और चतुराई के गुण सिखा रही है. दरअसल सेना ने बच्चो के लिए सोमवार 27 मई से ग्रीष्मकालीन साहसिक शिविर शुरू किया है. इस शिविर में भारतीय सेना की दक्षिणी कमान से लगभग 125 बच्चे भाग ले रहे हैं.

रक्षा मंत्रालय ने अपने अधिकारिक बयान में बताया कि राजस्थान के माउंट आबू में 27 मई से दक्षिणी कमान बाल ग्रीष्मकालीन साहसिक शिविर 2019 का आयोजन कर रहा है. जो कि 3 जून 2019 तक चलेगा. इस शिविर में भाग लेने वाले बच्चों को उनमें साहसिक कार्यों के प्रति उत्साह पैदा करने और व्यक्तित्व विकास का मौका मिलेगा.

शिविर में बच्चे  ट्रैकिंग, गुफा में रहना, नौकायान, विभिन्न खेल और प्रतियोगिताओं समेत  तरह-तरह के इनडोर और आउटडोर गतिविधियों में भाग लेंगें. कुल आठ दिनों तक चलने वाला यह शिविर युद्ध एक्स डिवीजन के 8 मद्रास बटालियन के सहयोग से कराया जा रहा है.

शिविर में बच्चों को अपने स्वभाव को विस्तार देने, नये दोस्त बनाने, नई और विविध रूचियों को विकसित करने और यादगार लम्हें सृजित करने का मौका मिलेगा. शिविर के आयोजकों का लक्ष्य भी बच्चों को नये शौक विकसित करने और उन्हें अपनाने, जिम्मेदारियां उठाने, लक्ष्य तय करने और उन्हें हासिल करने के लिये प्रेरित करना है. इसके लिये योग एवं ध्यान तकनीक से परिचय करना, सुरक्षा से जुड़े विषयों पर जानकारी देना और सामाजिक मर्यादा बढ़ाने जैसी विविध गतिविधियां कराई जाएंगी.

गौरतलब हो कि इस शिविर का आयोजन माउंट आबू में भारतीय सेना बच्चों की गर्मी की छुट्टियों के दौरान हर साल कराती है जिससे बच्चों को कुछ नया सीखने और साहसिक कार्यों को करने के लिए एक मंच उपलब्ध कराया जाता है.

Related Articles

Back to top button