सेना भर्ती: आगरा में फर्जी दस्तावेजों के साथ कई युवक गिरफ्तार

आगरा: आगरा के आनंद इंजीनियरिंग कॉलेज में चल रही सेना रैली भर्ती (Army rally recruitment) के दौरान पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। पुलिस और सेना की इंटेलीजेंस ने फर्जी दस्तावेजों (Fake documents) के आधार पर भर्ती होने आए 10 युवकों और पांच जालसाजों को गिरफ्तार किया हैं। पकड़े गए आठ अभ्यर्थी तो शारीरिक परीक्षा भी दे चुके थे, एक का फिजिकल होना बाकी था। एक अभ्यर्थी का पंजीकरण नहीं हो सका था।

आगरा दिल्ली हाईवे पर कीठम स्थित आनंद इंजीनियरिंग कॉलेज में सोमवार से सेना की रैली भर्ती शुरू हुई। यहां पर हर दिन अलग-अलग जिलों के अभ्यर्थियों को बुलाया गया है। आरोपी अभ्यर्थियों ने कासगंज की भर्ती में शामिल होने का प्रयास किया था। इसके लिए सभी आरोपी फर्जी निवास प्रमाण पत्र बनवा कर लाए थे। इसके बाद फर्जी कोविड-19 रिपोर्ट भी बनवा रहे थे।

ये हुए थे Fake document से भर्ती में शामिल

एसएसपी बबलू कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि गिरफ्तार अभ्यर्थी लव कुश, प्रदीप, कुलदीप, सनी, गौरव, विनीत, रोहित, सचिन, हितेश, जयप्रकाश हैं। ये आगरा की सेना रैली भर्ती में शामिल होने आए थे। यह सभी अभ्यर्थी बुलंदशहर, गौतम बुद्ध नगर और हापुड़ के रहने वाले हैं। ये सभी फर्जी दस्तावेज (Fake document) से भर्ती में शामिल हो रहे थे। एसएसपी के मुताबिक, फर्जी दस्तावेज तैयार करने वाले गिरोह के पांच युवक गिरफ्तार किए गए हैं। इनके नाम शिव कुमार निवासी फर्रुखाबाद, सोनू खान, नवीन, फिरोज और मुनीर निवासी गांव अरसेना (सिकंदरा) हैं।

कोरोना की फर्जी रिपोर्ट बरामद

एसएसपी के मुताबिक गिरफ्तार युवक भर्ती स्थल के पास ही लैपटॉप और प्रिंटर की मदद से कोविड-19 की फर्जी रिपोर्ट भी दे रहे थे। गिरफ्तार अभियुक्त पुरानी कोरोना रिपोर्ट को स्कैन करके नाम और पता बदलकर असली जैसा बनाकर अभ्यर्थियों को दे रहे थे। इस रिपोर्ट के आधार पर अभ्यर्थियों को रैली भर्ती में शामिल होने की अनुमति मिल रही थी।

यह भी पढ़ें: विधानसभा में कोरोना प्रोटोकॉल के तहत एक सीट छोड़कर बैठेंगे विधायक

Related Articles

Back to top button