आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के कारण कम होते रोजगार, 100 नौकरियां जाएंगी तो सिर्फ 10 नई पैदा होंगीं

नई दिल्ली: आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ने तेजी से अपना दायरा बढ़ाना शुरू कर दिया है. ट्रेडिशनल टेक्नलॉजी एक्सपर्ट्स का मानना है तकनीक के क्षेत्र में हर साल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस वजह से कम हुए 100 पदों के ग्राफ में केवल 10 पोजिशंस बनाई जा रही हैं. जितनी तेजी से नौकरियों खत्म हो रही हैं उतनी तेजी से नए पदों का सृजन नहीं किया जा रहा है. कंपनियां आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस स्किल से आए अंतर को भरने के लिए तेजी से प्रशिक्षण देकर प्रतिभा पैदा कर रही हैं. ईटी की रिपोर्ट में ये बात सामने आई है.

 

इसका सीधा सा मतलब ये है कि अगर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की वजह से 100 नौकरियां जा रही हैं तो उसकी जगह केवल 10 नौकरियों के अवसर ही पैदा हो पा रहे हैं.

क्या है आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस?

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस वो तकनीक है जहां आप कंप्यूटर को इंसान की तरह काम करना सिखाते हैं. जैसे एपल का सिरी, गूगल असिस्टेंट या फिर एमेजन एलेक्सा. यहां आप कंप्यूटर को डाइरेक्ट करते हैं और वो आपके हिसाब से काम करता है. कई रिसरचर्स का मानना है कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से अब कंप्यूटर इंसानों से बेहतर होने लगे हैं. ये कहना गलत नहीं होगा कि आने वाला समय आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का ही होगा जो एक अलग दुनिया बनाएगा.

आज कल लगभग हर क्षेत्र में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल हो रहा है. रोज नए प्रयोग किए जा रहे हैं. इसके अलावा चेस खेलना, फोटो निकालना, कैंसर का इलाज करना जैसी चीजें भी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से होने लगी हैं. जिससे एक बात तो तय है कि जब आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को पूरी तरह से विकसित कर लिया जाएगा तो शायद काम को करने के लिए इंसानों की जरूरत ही नहीं होगी.

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की पहली रिसर्च 1956 में हुई थी जिसके बाद ये लगातार जारी है. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल तकरीबन सभी इंडस्ट्री में किया जा रहा है जिसमें होटल्स, फाइनेंस, खेती, ऑनलाइन शॉपिंग और दूसरी चीजें शामिल हैं. इंटरनेट पर कई ऐसे वीडियोज मौजूद हैं जिनमें आप आसानी से होट्ल्स, रेस्तरां में लोगों खाना परोसते रोबोट दिख जाएंगे.

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के बारे में अभी भी लोगों का ज्ञान सीमित है. अगर इसके बारे में इंटरनेट पर जानकारी इकट्ठी की जाए तो दो तरह की बातें निकलकर सामने आती हैं. पहली इससे जुड़ी नवीनता, उत्साह, प्रचार और इसके फायदे के बारे में बताती है तो वहीं दूसरी तरफ इसके नुकसान की बात भी होती है. जहां ये कहा जा रहा है कि जो काम फिलहाल इंसान कर रहा है वो आने वाले समय में रोबोट के जरिए किए जाएंगे.

Related Articles