कारीगर ने बनाई ने PM मोदी की गुल्लक वाली मूर्तियां, दंग हुए लोग

बिहार के मुजफ्फरपुर में एक कारीगर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गुल्लक की मूर्तियां बनाई हैं, जिसमें आप पैसे जमा कर सकते हैं

पटना: बिहार के मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) में एक कारीगर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गुल्लक की मूर्तियां बनाई हैं। कारीगर ने बताया कि, मैंने जनता कर्फ्यू के बाद से इन मूर्तियों को बनाने का निर्णय लिया। यह गुल्लक भी है, इसमें लोग अपने पैसे जमा कर सकते हैं। इन्हें बनाने में मुझे एक महीना लग गया।

इसके लिए फेमस है मुजफ्फरपुर

मुजफ्फरपुर उत्तरी बिहार का एक प्रमुख शहर है। अपने सूती वस्त्र उद्योग,लाह (लाख) की चूड़ियों, शहद, आम और लीची जैसे फलों के उम्दा उत्पादन के लिये यह जिला पूरे विश्व में जाना जाता है, खासकर यहां की शाही लीची का कोई जोड़ नहीं है। यहां तक कि भारत के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को भी यहां से लीची भेजी जाती है। बिहार के जर्दालु आम, मगही पान और कतरनी धान को जीआइ टैग मिल चुका है।

2017 मे मुजफ्फरपुर स्मार्ट सिटी के लिये चयनित हुआ है। अपने उर्वरक भूमि और स्वादिष्ट फलों के स्वाद के लिये मुजफ्फरपुर देश विदेश मे “स्वीटसिटी” (SweetCity) के नाम से जाना जाता है। मुजफ्फरपुर थर्मल पावर प्लांट देशभर के सबसे महत्वपूर्ण बिजली उत्पादन केंद्रो मे से एक है।

प्राचीन काल में मुजफ्फरपुर मिथिला राज्य का अंग था। बाद में मिथिला में वज्जि गणराज्य की स्थापना हुई। तीसरी सदी में भारत आए चीनी यात्री ह्वेनसांग के यात्रा विवरणों से यह पता चलता है कि यह क्षेत्र काफी समय तक महाराजा हर्षवर्धन के शासन में रहा। उनकी मृत्यु के बाद स्थानीय क्षत्रपों का कुछ समय शासन रहा और 18वीं सदी के बाद यहां बंगाल के पाल वंश के शासकों का शासन शुरु हुआ जो 1019 तक जारी रहा।

मुजफ्फरपुर का वर्तमान नाम ब्रिटिस काल के राजस्व अधिकारी मुजफ्फर खान के नाम पर पड़ा है। 1972 तक मुजफ्फरपुर जिले में शिवहर, सीतामढी तथा वैशाली जिला शामिल था।

यह भी पढ़ेGoa में केजरीवाल का हर महीने 300 यूनिट फ्री बिजली का ऐलान, पुराने बिल माफ

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles