सर्जिकल स्ट्राइक पर अरुण शौरी ने किया था दावा, सामने आई ये हकीकत

नई दिल्ली। सितंबर 2016 में हुए सर्जिकल स्ट्राइक पर विपक्ष ने जमकर सवाल खड़े किए थे। यहां तक की इसके सबूत भी मांगे थे। साथ ही पाकिस्तान में बैठे 26/11 हमले के मास्टमाइंड आतंकी हाफिज सईद ने सर्जिकल स्ट्राइक को झूठा करार दे दिया था, हुए इस सर्जिकल हमले में भारतीय सेना ने आतंकवादियों को भारी नुकसान पहुंचाया था और इस दौरान कई आतंकवादी मारे भी गए थे। जहां एक तरफ सारा विपक्ष इस पर सवाल खड़ा कर रहा था उन्हीं में पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी भी शामिल थी। जिन्होंने सर्जिकल को फर्जिकल स्ट्राइक बताते हुए सरकार पर कई आरोप लगाए थे। इन आरोपों को झूठा साबित करने वाला हाल ही में एक वीडियो सामने आया है। जिसने सभी विपक्ष को मुंहतोड़ जवाब दिया है।

आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा था कि मौजूदा सरकार के पास चीन, पाकिस्तान और बैंक को लेकर कोई नीति नहीं है। यह बयान उन्होंने कांग्रेस नेता सैफुद्दीन सोज की किताब ‘कश्मीर: गिलम्पसेज ऑफ हिस्ट्री एंड द स्टोरी ऑफ स्ट्रगल’ के विमोचन के दौरान दिया था।

यह भी पढ़ें: सर्जिकल स्‍ट्राइक का सबसे बड़ा सबूत आया सामने, 636 दिनों बाद खत्‍म हुआ सस्‍पेंस

साथ ही उन्होंने कहा था कि हिन्दू-मुस्लिम के बीच बस सरकार दूरी बनाकर राजनीतिक फायदा उठाना चाहती है, लिहाजा इनके पास को भी ऐसी नीति नहीं जिससे यह सारे मसले हल किया जा सके, हां यह केवल अपने फायदे के लिए कदम उठाया गया है।

आगे शौरी ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा था कि स्वायत्तता की भारी कमी है। दिल्ली से पैसा जाता जरूर है लेकिन जरूरतमंदों तक पहुंचता नहीं है, चुनाव आयोग और CAG जैसी संस्थाओं को और सजग बनाने पर भी जोर दिया।

बता दें, सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान भारतीय सेना ने रॉकेट लॉन्चर, मिसाइलों और छोटे हथियारों से हमला किया था। यह हमला भारतीय सेना ने जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में भारतीय सेना के कैंप हुए आतंकी हमले की जवाबी कार्रवाई के तौर पर किया था। जिसपर विपक्ष ने जमकर राजनीति की थी।

Related Articles