Tarun Tejpal ने दी बॉम्बे HC में प्राइवेट सुनवाई की अर्जी

आज मंगलवार उनकी एक याचिका पर बॉम्बे हाई कोर्ट की बेंच मे सुनवाई हुई। यह याचिका तरुण को बरी किए जाने के खिलाफ है

नई दिल्ली: आज मंगलवार उनकी एक याचिका पर बॉम्बे हाई कोर्ट की बेंच मे सुनवाई हुई। यह याचिका तरुण को बरी किए जाने के खिलाफ है। लेकिन उनके वकील अमित देसाई ने कोर्ट में गुहार लगाई की उनके क्लाइंट की याचिका की सुनवाई पर कोर्ट के प्राइवेट रूम में हो लेकिन सॉलिस्टर जनरल तुषार महेता ने इसका विरोध किया। फिलहाल अब अगली सुनवाई 13 अगस्त को है।

Tushar Mehta
Tushar Mehta

सॉलिस्टर जनरल तुषार ने जताई चिंता और कहा-

आज न्यायपालिका की संस्था फेल हो गई। महेता ने घोर विरोध करते हुआ बोला की यह मेरा तर्क नहीं है लेकिन अगर मै एक बात बोलूँ तो गलत नहीं होगा इस समय और वो ये है की “कपड़े उतारने के दो तरीके होतें है, पहेला जब आरोपी पीड़ित के कपड़े उतारता है, दूसरा जब आरोपी को जनता मे अपने कपड़े उतरने का डर होता है। वहीं महेता ने कहा था की तेजपाल मामले में  न्यायपालिका की संस्था फेल हो गई है। उन्होंने यह भी कहा था की देश को जानने का पूरा अधिकार है की अगर कोई लड़की योन शोषण की शिकायत देती है तो कोर्ट कैसे इस चीज से निपटेगी।

प्रतीकात्मक
प्रतीकात्मक

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होगी सुनवाई

कोर्ट मे दोनों वकील इस बात पर राजी हो गए की वर्चुअल सुनवाई सुनवाई ही ठीक है क्योंकि गोवा कोर्ट में अगले हफ्ते से फिजिकल सुनवाई शुरू कर रहा है और अब वर्चुअल सुनवाई की इजाजत लेने के लिए चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एन वी रमणा से बात की करेगी।

Tarun Tejpal
Tarun Tejpal

जाने किया था मामला

पीड़िता का आरोप था कि नवंबर, 2013 में तहलका मैगज़ीन की तरफ़ से गोवा में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान तरुण तेजपाल ने उनके साथ लिफ्ट में बदसलूकी की, आरोप की गंभीरता को देखते हुए तेजपाल के ख़िलाफ़ रेप IPC की धारा 376 के तहत मुकदमा दर्ज करके उन्हें गिरफ़्तार भी किया गया था और सात महीने जेल में बिताने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें ज़मानत दे दी थी।  गोवा पुलिस ने लगभग तीन हज़ार पन्नों का आरोपपत्र दायर किया था, जिसमें तेजपाल पर, ग़लत तरीक़े से नियंत्रण, ग़लत तरीक़े से बंधक बनाने, यौन उत्पीड़न, हमला, और पद का दुरुपयोग करके यौन शोषण जैसे आरोप लगाए गए हैं। तरुण तेजपाल ने सभी आरोपों से इनकार किया था और ख़ुद को बेकसूर बताया था।

Tarun Tejpal
Tarun Tejpal

तरुण तेजपल कौन है ?

भारत के सबसे प्रसिद्ध पत्रकारों में से एक तरुण तेजपाल ने देश के कुछ जाने-माने अख़बारों और पत्रिकाओं में काम करने बाद साल 2000 में तहलका पत्रिका शुरू की थी। तहलका ने बहुत कम वक़्त में बेहतरीन पत्रकारिता करने में नाम कमाया और भारतीय पत्रकारिता की कुछ सबसे बड़ी ख़बरें ब्रेक कीं। स्टिंग ऑपरेशन तहलका की ख़ासियत थी की तहलका के रिपोर्टर अपनी पहचान बदलकर छिपे कैमरों से आम ज़िंदगी में भ्रष्टाचार को उजागर करने का काम करते थे। तहलका पत्रिका ने सबसे ज़्यादा नाम 2001 में अपने-ऑपरेशन वेस्ट-एंड के लिए कमाया। उन्होंने तीन अँगरेज़ी उपन्यास भी लिखे हैं।

 

यह भी पढ़े:पार्टियों को चयन के 48 घंटे के भीतर उम्मीदवारों के आपराधिक इतिहास को सार्वजनिक करें: HC

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles