अरविन्द केजरीवाल और अखिलेश यादव ने भी किया किसानों का समर्थन

राकेश टिकैत के रोते हुए भावुक स्पीच देने के बाद उनके बड़े भाई व भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रिय अध्यक्ष नरेश टिकैत एक्शन में आ गए है।

नई दिल्ली: 26 जनवरी के दिन हुई हिंसा के बाद से किसान आंदोलन ठंडा पड़ते दिख रहा था, लेकिन गुरुवार को गाजीपुर बॉर्डर पर राकेश टिकैत के रोने के बाद माहौल फिर बदल गया है। इस बीच उनके भाई नरेश टिकैत ने मुजफ्फरपुर में महापंचायत का ऐलान कर दिया। कृषि कानून को लेकर भारतीय किसान यूनियन अब केंद्र सरकार से आर-पार के मूड में आ चुकी है।

गुरुवार शाम को राकेश टिकैत के रोते हुए भावुक स्पीच देने के बाद उनके बड़े भाई व भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रिय अध्यक्ष नरेश टिकैत एक्शन में आ गए है। गुरवार रात नरेश टिकैत ने ट्वीट कर कहा कि चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत के बेटे व मेरे छोटे भाई राकेश टिकैत के आसूं बेकार नहीं जाएंगे, बाबा टिकैत का एक- एक सिपाही अब दिल्ली कूच करेगा।

नरेश टिकैत ने कहा कि अब महापंचायत होगी और इस आंदोलन को निर्याणक स्थित में पहुंचाकर ही दम लेंगे। वहीं गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों की बढ़ती तादात को देखते हुए पुलिस बल ने अपनी कार्रवाई को संयमित कर दिया है, लेकिन पुलिस बल ने राकेश टिकैत को गिरफ्तार करने के लिए बड़ी सख्या में अब भी जमावड़ा डाला हुआ है।

अरविन्द केजरीवाल ने किया राकेश टिकैत का समर्थन 

इन सभी के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने ट्वीट करते हुए लिखा, राकेश जी, हम पूरी तरह से किसानों के साथ हैं। आपकी माँगे वाजिब हैं। किसानों के आंदोलन को बदनाम करना, किसानों को देशद्रोही कहना और इतने दिनों से शांति से आंदोलन कर रहे किसान नेताओं पर झूठे केस करना सरासर ग़लत है।

अखिलेश यादव ने भी किया समर्थन 

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने राकेश टिकैत के समर्थन में ट्वीट करते हुए लिखा, सबका पेट भरनेवाले किसानों को भाजपा भूखा-प्यासा रखकर व झूठे आरोप लगाकर हराना चाहती है लेकिन चंद भाजपाइयों को छोड़कर सवा सौ करोड़ हिंदुस्तानी आज भी किसानों के साथ खड़े हैं, सपा किसानों के साथ है।

यह भी पढ़े: अमेरिका के नए रक्षा मंत्री ने फ्रांस से की पश्चिम एशिया को लेकर चर्चा

Related Articles