अदालत ने अर्जित शाश्वत को दी राहत, सात दिन जेल में रहने के बाद मिली जमानत

पटना: बिहार में हुए भागलपुर में हुए दंगे के मामले में गिरफ्तार हुए केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत चौबे को राहत देते हुए अदालत ने जमानत याचिका को मंजूरी दे दी है। भाजपा नेता अर्जित शाश्वत ने बीते दो अप्रैल को पटना में सरेंडर किया था। उनपर दंगा भड़काने का आरोप लगा है।

आपको बता दें कि भागलपुर के नाथनगर में 17 मार्च को हिंदू नववर्ष के मौके पर निकाले गए जुलूस के दौरान सांप्रदायिक हिंसा भड़क गई गई थी। पुलिस ने इस मामले में दो अलग-अलग प्राथमिकी दर्ज की थी और अर्जित शाश्वत को भी आरोपी बनाया था। जिसके बाद वह कई दिनों तक फरार रहे थे।

इसके बाद अर्जित शाश्वत ने दो अप्रैल को सरेंडर किया था और इसके अगले ही दिन निचली अदालत में जमानत याचिका दायर की थी। हालांकि, अदालत ने अर्जित की जमानत याचिका को ख़ारिज कर दिया।

इसके पहले अर्जित शाश्वत के पिता अश्विनी चौबे ने अपने बेटे का पक्ष लिया था। उस समय अपने बेटे के पक्ष में उन्होंने बयान देते हुए कहा था कि अर्जित ने ऐसा कुछ नहीं किया जो गलत हो। अश्विनी चौबे ने अपने बयान में कहा था कि अर्जित भागा नहीं है, भागता वो है जो गलत काम करता है और भारत माता, वंदे मातरम, जयश्रीराम के नारे लगाना अपराध नहीं है।

Related Articles